boltBREAKING NEWS

बुआ की गला घोंटकर हत्या व पैर काट गहने लूटने वाले भतीजे को आजीवन कारावास

बुआ की गला घोंटकर हत्या व पैर काट गहने लूटने वाले भतीजे को आजीवन कारावास

 भीलवाड़ा बीएचएन। 75  साल की बुजुर्ग अपनी ही बुुआ की गला दबा कर हत्या और पैर काटकर गहने लूटने के आरोपित भतीजे कालु कुम्हार को आजीवन कारावास से दंडित किया गया। उस पर 50 हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया। यह अहम फैसला, मंगलवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंद्रप्रकाश श्रीमाली ने सुनाया। बता दें कि वारदात अप्रैल 2016 में जिले के आकोला गांव में हुई थी।   
 लोक अभियोजक कुणाल ओझा ने बीएचएन को बताया कि आकोला निवासी हजारी 78 पुत्र घीसा कुम्हार ने 30 अप्रैल 2016 को कोटडी थाना प्रभारी राजमल खींची को रिपोर्ट दी कि उसकी पत्नी सोहनी 75 व बहन मूली 70 के साथ रहता है। मूली मंदबुद्धि है।  
परिवादी हजारी, 29 अप्रैल 16 की रात 9 बजे पड़ोस में ही देवनारायण मंदिर पर जागरण में गया था। घर पर उसकी पत्नी और बहन थी। हजारी के साले का लड़का बिठलपुरा निवासी कालू पुत्र सुवा कुम्हार भी मकान पर मौजूद था। रात 12 बजे हजारी गौ मूत्र लेने मंदिर से घर गया तो मकान का दरवाजा अंदर से बंद था। हजारी ने आवाज दी तो बहन ने दरवाजा खोला। वह, गौमूत्र लेकर पुन: मंदिर चला गया। रात एक बजे  वह घर आया तब भी दरवाजे पर सांकल लगी थी। बहन मूली ने दरवाजा खोला।  हजारी ने अपनी पत्नि सोहनी को आवाज दी तो वह नहीं बोली।  कम्बल हटा कर देखा तो पत्नी के सिर से खून बह रहा था।   दोनों पैर कटे हुए थे । दोनों कटे पंजे पैरों के बीच रख थे । गले में  दुपट्टे से फांसी लगाई हुई थी। हजारी ने फंदा खोला। खाट के पास एक कुल्हाड़ी ,दो दराती व दो छीनियां  मिली ।सोहनी के  कपड़े खून से सने हुए थे व उसके पहने हुए गहने सोने की रामनवमी, मांदलिया, पेरों में चांदी की कडिय़ा गायब मिली। हजारी के साले का लड़का  कालू पुत्र सुवा कुम्हार निवासी बिठलपुरा वारदात के बाद घर से फरार हो गया।हजारी ने अपने साले के बेटे पर पत्नी सोहनी की हत्या की आशंका जताई। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु की।  
पुलिस ने हजारी के साले के बेटे कालू को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो उसने वारदात कबूल कर ली। साथ ही पुलिस ने आरोपित की सूचना पर मृतका के गहने सोने की रामनामी, मांदलिया, हाथ के कडोलियें व पैरों की कडिय़ां भी बरामद किये। ये गहने आरोपित ने अपने घर में गोबर के कंडों के बीच छिपाकर रखे थे। पुलिस ने जांच पूर्ण कर आरोपित कालू के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश किया।  
न्यायालय में सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से लोक अभियोजक कुणाल ओझा ने पैरवी कर   22 गवाहों के बयान करवाते हुये  51 दस्तावेज प्रदर्शित करवाए और  15 आर्टीकल पेश कर आरोपित कालू पर लगे आरोप सिद्ध किये। सुनवाई पूरी होने पर आज कोर्ट ने आरोपित कालू को आजीवन कारावास व 50 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया।