boltBREAKING NEWS

पुलिस से बचकर हाईवे पर दौड़े सांसद किरोड़ी:पकड़ने के लिए पुलिसवाले भी पीछे-पीछे भागे, कुछ दूर जाकर पकड़ा

पुलिस से बचकर हाईवे पर दौड़े सांसद किरोड़ी:पकड़ने के लिए पुलिसवाले भी पीछे-पीछे भागे, कुछ दूर जाकर पकड़ा

अजमेर। राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा गुरुवार को दिनभर सुर्खियों में रहे। उदयपुर में पुलिस निगरानी के बाद मीणा देर शाम अजमेर पहुंचे। वहां से पुष्कर जाने लगे। यहां किरोड़ी लाल मीणा को जिला पुलिस ने ब्यावर रोड स्थित कृषि उपज मंडी के बाहर रोक लिया। सांसद ने नाराजगी जताई। उन्होंने कहा- राजस्थान सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। इस दौरान पुलिस को चकमा देते हुए सांसद ब्यावर रोड हाईवे पर दौड़ने लगे। उन्हें पकड़ने के लिए पुलिस भी पीछे-पीछे थी। कुछ ही दूरी पर पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। इसके बाद जयपुर की तरफ भेज दिया।

किरोड़ी लाल मीणा अजमेर में गुरुवार शाम करीब 7.30 बजे पुलिस निगरानी के बीच ब्यावर रोड हाईवे पर पैदल चल रहे थे। कुछ देर चलने के बाद वह अपनी गाड़ी में बैठे। फिर पत्रकारों से कहा कि मेरी दौड़ देखी है। अगर नहीं देखी तो देखो। इसके बाद वह अपनी गाड़ी से उतरे और दौड़ लगाना शुरू कर दिया। मीणा के दौड़ लगाने के बाद पुलिस के आला अधिकारी भी उनके पीछे दौड़ लगाते हुए दिखे और उन्हें पकड़ कर वापस उनकी गाड़ी में बैठा दिया। इसके बाद वह अपनी गाड़ी में बैठ कर जयपुर की तरफ निकल गए।

मीणा ने कहा कि राजस्थान सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। उनके मौलिक अधिकार को भी छीना जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह उदयपुर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने गए थे। इस दौरान पत्रकार वार्ता भी की जानी थी। उन्हें उदयपुर पुलिस ने निगरानी में रखा। पत्रकार वार्ता भी नहीं करने दी गई। उन्होंने कहा कि एक तरफ तो कांग्रेस चिंतन शिविर कर रही है। दूसरी तरफ आदिवासी लोगों पर अत्याचार हो रहे हैं। बेटियों के साथ रेप की घटनाएं बढ़ रही हैं। उदयपुर में जिस होटल में चिंतन शिविर किया जा रहा है, वह भी मुख्यमंत्री के देखरेख में अवैध रूप से बनाई गई है।

किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि आदिवासी हितों को लेकर सरकार कुछ नहीं कर रही है। इस तरह की आवाज उठाने पर उन्हें पुलिस निगरानी में रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि उदयपुर पुलिस ने उन्हें गुरुवार को सभी काम करने से रोक दिया गया। सुबह से ही उन्हें परेशान किया जा रहा है। गणेश धाम के दर्शन भी उन्हें नहीं करने दिए गए। इसके बाद उदयपुर से कई किलोमीटर दूर पुष्कर में भी उन्हें नहीं छोड़ा गया। उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान सरकार पुलिस का दुरुपयोग करते हुए मौलिक अधिकारों का हनन कर रही है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर जेल में डाल दे। वह आदिवासी और दलित उत्पीड़न के साथ ही परेशान जनता की आवाज उठाते रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि वे पुष्कर तो जाकर रहेंगे।

पुलिस का जाब्ता रहा तैनात
किरोड़ी के अजमेर प्रवास के दौरान ब्यावर रोड पर अजमेर जिला पुलिस का बड़ी संख्या में जाब्ता तैनात किया गया। एडिशनल एसपी, प्रशिक्षु आईपीएस, पुलिस उप अधीक्षक, थानाधिकारी सहित विभिन्न थानों का पुलिस जाब्ता उनकी निगरानी में रहा।