boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ

इस मौके को बनाएं खास, इन स्वादिष्ट खिचड़ी के साथ

 इस मौके को बनाएं खास, इन स्वादिष्ट खिचड़ी के साथ

मकर संक्रान्ति के दिन सुबह-सुबह नहाकर तिल से बनी चीज़ों को दान करने के साथ उनका सेवन भी किया जाता है। इस मौके पर कई जगहों पर पतंग उड़ाने की भी प्रथा है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान भास्कर अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उसके घर जाते हैं। क्योंकि शनिदेव मकर राशि के स्वामी हैं, इसलिए इस दिन को मकर संक्रान्ति के नाम से जाना जाता है। महाभारत काल में भीष्म पितामह ने अपने देह त्यागने के लिए मकर संक्रान्ति का ही दिन चुना था। मकर संक्रान्ति के दिन ही गंगाजी भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई सागर में जाकर मिली थीं। तो कई मायनों में यह दिन खास है। इस मौके पर एक और रिवाज़ है जो हर घर में फॉलो किया जाता है वो है खिचड़ी बनाने की परंपरा। जिसे अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग तरीकों से बनाया जाता है। आइए जानते हैं इनमें से कुछ की रेसिपी। 

1. बाजरे की खिचड़ी

सामग्री

250 ग्राम बाजरा, 100 ग्राम मोठ दाल छिलके वाली, स्वादानुसार नमक, 4 टेबलस्पून मक्खन

विधि

- बाजरे को पानी में छींटा दे देकर इमामदस्ते में हल्के हाथ से कूटें ताकि इसका छिलका उतर जाए। फिर फटककर छिलका हटा दें।

- बाजरे तथा दाल को नमक देकर दो लीटर गरम पानी में मंद आंच पर पकने दें। जब उबलने लगे तब ढक्कन हटाकर बराबर चलाती रहें।

- जब यह खूब घुल जाए तब मक्खन डालकर अच्छी तरह मिला लें।

- इसे गरमागरम परोसें।

नोट- अगर प्रेशर कुकर में पकाएं तो पानी करीब डेढ़ लीटर ही डालें। भाप निकालने के बाद अच्छी तरह फेंट लें। फिर मक्खन डालें।

2. बंगाली खिचड़ी

सामग्री

100 ग्राम चावल, 50 ग्राम मूंगदाल (धुली या छिलके वाली), 2 आलू, 1 छोटी फूलगोभी, 100 ग्राम मटर के दाने, 1 अदरक का टुकड़ा, 3-4 हरी मिर्च, नमक स्वादानुसार, 1/2 टीस्पून हल्दी, 1/2 टीस्पून शक्कर, 2 साबुत लाल मिर्च, 1/2 टीस्पून जीरा. थोड़ी सी हींग, 4 लौंग, 2 छोटी इलायची, 1 टुकड़ा दालचीनी, 2 तेजपत्ता, 3 टेबलस्पून घी

विधि

- आलू छीलकर आठ लंबे टुकड़े कर लें।

- फूलगोभी के बड़े-बड़े टुकड़े कर लें।

- अदरक मोटी काट लें और हरी मिर्च बीच से चीर लें।

- चावल को अच्छी तरह धो लें।

- दाल को मंद आंच पर बिना घी के गुलाबी होने तक भूनें। इसमें घी, साबुत लाल मिर्च, जीरा और हींग छोड़कर बाकी सब सामान मिलाकर आधा लीटर पानी डालकर ढककर मंद आंच पर करीब आधा घंटा पका लें। बीच-बीच में हल्के से चलाएं।

- आंच से उतारकर घी गरम कर साबुत लाल मिर्च, जीरा और हींग का छौंक दे दें। गरमागरम परोसें।

3. करमा बाई की खिचड़ी

सामग्री

150 ग्राम मोटा चावल, 25 ग्राम चने की दाल, 25 ग्राम छिलके वाली मूंगदाल, 20 किशमिश, 1 बड़ी इलायची, 1 छोटी इलायची, 4 लौंग, 1 टुकड़ा दालचीनी, स्वादानुसार नमक, 2 टेबलस्पून शक्कर, 3 टेबलस्पून घी

विधि

- चावल व मूंगदाल को अच्छी तरह धो लें।

- चने की दाल को दो घंटे के लिए भिगो दें।

- एक बर्तन में घी गरमकर दालचीनी, बड़ी व छोटी इलायची, लौंग, किशमिश डालकर चलाएं।

- फिर चावल व दोनों दाल डाल दें। इसमें नमक व शक्कर डालकर दो-तीन मिनट भूनकर करीब आधा लीटर गरम पानी डालें।

- इसे ढककर मंद आंच पर करीब आधा घंटा तक पका लें। फिर गरमागरम परोसें।

- सोंधेपन के लिए खिचड़ी को मिट्टी के बर्तन में परोस सकती हैं।

ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम

cu