boltBREAKING NEWS
  •  
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

राष्ट्रीय लोक अदालत 11 दि‍सम्‍बर को

राष्ट्रीय लोक अदालत 11 दि‍सम्‍बर को

नाथद्वारा । अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, जिला एवं सेशन न्यायाधीश राजसमन्द अनन्त भण्डारी के निर्देशानुसार आगामी 11 दि‍सम्‍बर (द्वितीय शनिवार) को नाथद्वारा मुख्यालय पर राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। इस राष्ट्रीय लोक अदालत में शमनीय दाण्डिक अपराध, अन्तर्गत धारा 138 परक्राम्य विलेख अधिनियम, धन वसुली के प्रकरण, पारिवारिक विवाद (तलाक को छोड़कर), एम.ए.सी.टी. प्रकरण, श्रम एवं नियोजन संबंधित विवाद अन्य सिविल मामलें (जिनमें ओ.डी.आर. से निस्तारण संभव हो) आदि से संबंधित प्रकरणों का निस्तारण राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से किया जायेगा। 
        उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत के सफल आयोजन हेतु अध्यक्ष तालुका विधिक सेवा समिति, अपर जिला एवं सेषन न्यायाधीश नाथद्वारा लक्ष्मीकांत वैष्णव की अध्यक्षता में न्यायिक अधिकारीगण के साथ एक मिटिंग का आयोजन किया गया। उक्त मिटिंग में अध्यक्ष के अलावा वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, नाथद्वारा डाॅं0 लेखपाल शर्मा, सिविल न्यायाधीष एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट नाथद्वारा  परिणय जोशी, अतिरिक्त सिविल न्यायाधीष एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट नाथद्वारा मनोज सिंगारिया उपस्थित रहे। 
        अध्यक्ष  ने बताया कि आगामी दिनांक 11 दि‍सम्‍बर 2021 को राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। उक्त राष्ट्रीय लोक अदालत से पूर्व ही प्रकरणों में नोटिस जारी किये जाकर एवं प्रि-काउंसलिंग की जाकर प्रकरण को राजीनामें के माध्यम से निस्तारित किये जाने का प्रयास किया जावें। साथ ही बैंकों एवं बी.एस.एन.एल. के अधिकारीगण को भी वर्चुअल निर्देषित किया गया कि वे अधिक से अधिक संख्या में प्रि-लिटिगेषन के प्रकरण राष्ट्रीय लोक अदालत में प्रस्तुत करें जिससे न्यायालय में जाने से पूर्व ही समझौते के माध्यम से प्रकरण का निस्तारण किया जा सके। 
     इस संबंध में आमजन से भी अपील की जाती है कि पक्षकारान्  संबंधित न्यायालय में अपने प्रकरण को राष्ट्रीय लोक अदालत में रखने का अनुरोध कर सकते है एवं वे न्यायालय में लम्बित उक्त प्रकृति के प्रकरणों को राष्ट्रीय लोक अदालत में रखवाकर राजीनामा के माध्यम से इनका शीघ्र निस्तारण करवा सकते है जिससे समय व धन की बचत होगी तथा प्रकरणों का अंतिम रूप से निस्तारण हो सकेगा। 
     

संबंधित खबरें