boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करें
  •  
  •  

न बैंड बाजा, न बारात, चंद लोगों की मौजूदगी में 500 रुपये में हो गई मेजर और सिटी मजिस्ट्रेट की शादी

न बैंड बाजा, न बारात, चंद लोगों की मौजूदगी में 500 रुपये में हो गई मेजर और सिटी मजिस्ट्रेट की शादी

प्रोफाइल शादियों में दिखावे के नाम पर करोड़ों रुपये फूंक दिए जाते हैं। मगर एमपी के एक हाईप्रोफाइल कपल ने ऐसे लोगों के लिए शानदार मिसाल पेश की है। दोनों ने बिना झाम के 500 रुपये खर्च कर अपनी शादी की है, जिसकी खूब तारीफ हो रही है।

 

army major did marriage in 500 rupees : city magistrate shivangi joshi and major aniket chaturvedi got married for rs 500 in dhar court at madhya pradesh

न बैंड बाजा, न बारात, चंद लोगों की मौजूदगी में 500 रुपये में हो गई मेजर और सिटी मजिस्ट्रेट की शादीसरकारी अफसरों की शादी बहुत ही धूमधाम से होती है। इनकी शादी की चकाचौंध देखकर लोगों की नजर नहीं हटती हैं। सैकड़ों के संख्या में मेहमान पहुंचकर शादी को यादगार बनाते हैं। एमपी के धार जिले स्थित कोर्ट में सिटी मजिस्ट्रेट शिवांगी जोशी और आर्मी में मेजर अनिकेत चतुर्वेदी ने सादगी के साथ शादी की है। इस मौके पर परिवार के लोगों को छोड़कर कोई और दूसरा मेहमान नहीं आया था। शादी की तस्वीरें अब सामने आई हैं तो पूरे प्रेदश में खूब इसकी चर्चा हो रही है।

न बैंड बाजा और न बारात

दोनों परिवारों की तरफ से इस शादी में कुल 5-10 लोग मौजूद थे। इस शादी के लिए सिर्फ माला और मिठाई की व्यवस्था की गई थी। दोनों अपनी गाड़ी से निर्धारित समय पर कोर्ट पहुंचे। यहां शादी को लेकर पंजीयन कराया गया। फिर परिजनों की मौजूदगी में कोर्ट में दोनों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाया। इसके बाद दोनों एक-दूजे के हो गए। दूल्हा-दुल्हन खुशी-खुशी कोर्ट से रवाना हो गए। शादी के दौरान वहां मौजूद अधिकारियों ने भी दोनों को आशीर्वाद दिया।

कोरोना की वजह से टल रही थी शादी

 

सिटी मजिस्ट्रेट शिवांगी जोशी मूल रूप से भोपाल की रहने वाली है। शिवांगी की शादी सेना में मेजर अनिकेत चतुर्वेदी से दो साल पहले तय हुई थी। कोरोना की वजह से लगातार दोनों की शादी टल रही थी। मेरज अनिकेत चतुर्वेदी अभी लद्दाख में तैनात हैं। वहीं, शिवांगी की पोस्टिंग धार जिले में ही है। शिवांगी लगातार कोरोना काल में ड्यूटी कर रही थीं। इसकी वजह से शादी की तारीख तय नहीं हो पा रही थी।

सादगी से शादी करने का किया फैसला

कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद मेजर अनिकेत चतुर्वेदी और सिटी मजिस्ट्रेट शिवांगी जोशी ने सादगी के साथ शादी करने का फैसला किया। इसे लेकर दोनों परिवारों ने सहमति दे दी। उसके बाद धार कार्ट परिसर में बिना शोर शराबे और महंगे इंतजाम से दूर रहकर दोनों ने शादी की है। दोनों ने इस शादी से समाज को एक संदेश देने की कोशिश की है कि कैसे फिजुलखर्ची से बचा जाए।

फिजूलखर्च के खिलाफ हूं मैं

शिवांगी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है, लोग नियमों का पालन करें। शादियों में फिजूलखर्च न करें, इसलिए हमने ऐसे शादी की है। शिवांगी जोशी ने कहा कि मैं शुरुआत से ही शादी में फिजूलखर्च के खिलाफ हूं। शादी में फिजूलखर्च से न केवल लड़की के परिवार पर बोझ पड़ता है बल्कि पैसों का दुरुपयोग भी होता है।

धारेश्वर मंदिर में की पूजा

वहीं, शादी के बाद दोनों ने परंपरा निभाते हुए धार के प्राचीन धारेश्वर मंदिर पहुंच कर भगवान धारनाथ से आशीर्वाद भी लिया है। इस शादी में परिजनों के साथ कलेक्टर आलोक कुमार सिंह, एडीएम डॉ सलोनी सिड़ाना सहित स्टाफ के अधिकारी और कर्मचारी शामिल हुए हैं।