boltBREAKING NEWS
  • जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- दोषियों को बख्शेंगे नहीं
  • भीलवाड़ा : जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों से की शांति की अपील, बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान  
  • भीलवाड़ा : एसपी आदर्श सिधू ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- पुलिस का सहयोग करें और कानून व्यवस्था बनाए रखें 
  •  

पीडब्ल्यूडी अधिशासी अभियंता व ठेकेदार दो लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार, डामरीकरण के बिल भुगतान की एवज में ली घूस

पीडब्ल्यूडी अधिशासी अभियंता व ठेकेदार दो लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार, डामरीकरण के बिल भुगतान की एवज में ली घूस

भीलवाड़ा बीएचएन

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो भीलवाड़ा की स्पेशल यूनिट ने मंगलवार को पीडब्ल्यूडी भीम के अधिशासी अभियंता केशराम मीणा व एक ठेकेदार गोपाल सिंह को दो लाख रुपए की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। मीणा ने रिश्वत की राशि अपने आवास पर ली। यह रिश्वत सड़कों के डामरीकरण के बिलों की बकाया 98 लाख रुपए की राशि के भुगतान की एवज में ली है।
एएसपी एसीबी बृजराज सिंह चारण ने बीएचएन को बताया कि राजसमंद जिले के कलालिया गांव निवासी ठाकुर सिंह पुत्र तेज सिंह रावत ने 14 जून को एसीबी स्पेशल यूनिट भीलवाड़ा को शिकायत दर्ज कराई कि परिवादी सिंह ने बीएमएफटी योजना फेज द्वितीय के अंतर्गत देवगढ़ क्षेत्र में 4 सड़कों देवगढ़-आमेट रोड से सोलंकियों का गुढा, माद से मुंडकोसिया, देवरिया से माताजी का गांव, सासरिया से दोलाजी का खेड़ा का डामरीकरण करवाया था। ठेकेदार ठाकुर सिंह ने यह कार्य वर्ष 2018 में करवाया था। इस कार्य के करीब 1 करोड़ 16 लाख रुपए के बिल तैयार कर परिवादी ने अधिशासी अभियंता कार्यालय भीम में करीब साढ़े तीन साल पूर्व पेश कर दिए थे। इनमें से करीब 12 लाख रुपए का भुगतान पूर्व में हो गया था। शेष करीब 98 लाख रुपए के भुगतान की एवज में अधिशासी अभियंता भीम केशराम मीणा द्वारा 10 जून 2022 को परिवादी ठाकुर सिंह से पांच लाख रुपए की रिश्वत की मांग की गई। अधिशासी अभियंता ने ठेकेदार के बकाया बिल ट्रेजरी में भिजवाने और पांच-छह दिन में भुगतान हो जाने की बात कहकर पांच लाख रुपए की रिश्वत मांगी।
एसीबी ने इस मांग का सत्यापन करवाया। 18 जून को पुन: मांग सत्यापन के दौरान आरोपी केशराम मीणा ने एक लाख रुपए प्राप्त कर चार लाख रुपए की और मांग कर 21 जून को परिवादी को मंगलवार को आरोपी केशराम ने अपने सरकारी आवास पर बुलाया और रिश्वत राशि प्राप्त कर बेड की रेक में रखवा दी। परिवादी के इशारे पर एसीबी टीम मीणा के सरकारी आवास पर पहुंची जहां आरोपी केशराम मीणा ने टीम को दूर से आता देखकर रिश्वत के दो लाख रुपए अपने साथी गोपाल सिंह रावत ठेकेदार से उठवाकर उसकी जेब में रखवा दिए। एसीबी ने ये दो लाख रुपए बरामद कर लिए। समाचार लिखे जाने तक कार्यवाही जारी थी। टेलर ने बताया कि रिश्वत का आरोपी केशराम मीणा मूलतया जीवली सवाईमाधोपुर हाल जेपी कॉलोनी टोंक फाटक जयपुर और ठेकेदार गोपाल सिंह राजसमंद जिले के हिंदोला गांव का निवासी है। इस कार्यवाही को अंजाम देने वाली टीम में पुलिस उप अधीक्षक शिवप्रकाश टेलर के साथ दीवान गोपाल जोशी, शिवराज सिंह और हेमेंद्र सिंह शामिल थे। उधर, एसीबी के एडीजी दिनेश एमएन ने एएसपी सहित भीलवाड़ा की पूरी एसीबी टीम को अपनी ओर से बधाई दी है।