boltBREAKING NEWS

भाई राहुल का साथ देने मैदान में उतरेंगी प्रियंका, पहली बार भारत जोड़ो यात्रा में होंगी शामिल

भाई राहुल का साथ देने मैदान में उतरेंगी प्रियंका, पहली बार भारत जोड़ो यात्रा में होंगी शामिल

 

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में चल रही 'भारत जोड़ो यात्रा' कल यानी बुधवार को मध्य प्रदेश में प्रवेश कर जाएगी। मध्य प्रदेश में राहुल गांधी का साध देने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भी यात्रा में शामिल होंगी। ऐसा पहली बार होगा जब प्रियंका गांधी वाड्रा राहुल गांधी के नेतृत्व में निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होंगी।

 

कांग्रेस पार्टी के महासचिव जयराम रमेश ने मंगलवार को एक ट्वीट कर प्रियंका गांधी के यात्रा में शामिल होने की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी मध्य प्रदेश में चार दिनों के लिए भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होंगी। उन्होंने कहा, भारत जोड़ो यात्रा के लिए आज भी विश्राम का दिन है। कल यात्रा बुरहानपुर के पास मध्य प्रदेश में प्रवेश करेगी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वहां 4 दिनों के लिए यात्रा में शामिल होंगी।'

बुधवार को मध्य प्रदेश पहुंचेंगी प्रियंका

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक प्रियंका गांधी 23 नवंबर को मध्य प्रदेश पहुंचेंगी और 24 नवंबर को यात्रा में शामिल होंगीं। भारत जोड़ो यात्रा करीब 13 दिन में मध्य प्रदेश को पार करेगी। एमपी में यह यात्रा बुरहानपुर, खरगोन, इंदौर, खंडवा और उज्जैन जैसे कम से कम पांच जिलों को कवर करेगी। यात्रा का मार्ग पहले से ही तय है और यह प्रतिदिन लगभग 25-26 किमी की दूरी तय करेगी। राहुल गांधी खंडवा के ओंकारेश्वर मंदिर और उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में दर्शन भी करेंगे।

टंटिया मामा की जन्मस्थली पर भी जाएंगे राहुल

यात्रा के दौरान राहुल गांधी बीआर अंबेडकर और भारत के रॉबिनहुड कहे जाने वाले टंटिया मामा की जन्मस्थली पर जाकर उन्हें श्रद्धांजलि भी देंगे। कांग्रेस पार्टी का उज्जैन में एक सार्वजनिक रैली और एक मेगा रोड शो करने का भी कार्यक्रम है। इंदौर पहुंचने पर राहुल गांधी 29 नवंबर को प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।

अब तक यात्रा में नहीं शामिल हुईं हैं प्रियंका

बीते सात सितंबर से शुरू हुई 'भारत जोड़ो यात्रा' में अब तक प्रियंका गांधी शामिल नहीं हुई थीं। वह पिछले दिनों हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी के प्रचार अभियान में व्यस्त थीं। पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी कर्नाटक के मांड्या में इस यात्रा का हिस्सा बनी थीं और राहुल गांधी के साथ पदयात्रा की थी।