boltBREAKING NEWS

उच्च माध्यमिक विद्यालय में बालक बालिकाओं को पारितोषिक वितरण

 उच्च माध्यमिक विद्यालय में बालक बालिकाओं को पारितोषिक वितरण

भगवानपुरा  ( कैलाश शर्मा ) विद्यालय में अध्यनरत बालक बालिकाओं की वर्ष पर्यंत अध्ययन करने के दौरान अलग-अलग क्षेत्रों में छिपी हुई प्रतिभाओं को अभिभावकों एवं ग्रामीणों के समक्ष प्रदर्शित करने का वार्षिक उत्सव जैसे कार्यक्रम ही सशक्त माध्यम है । बालक बालिका का केवल शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठ प्रदर्शन होना ही पर्याप्त नहीं होता है अपितु शिक्षा के साथ-साथ सांस्कृतिक- साहित्यिक एवं अनुशासन के साथ-साथ कई ऐसे कार्य हैं जिसमें बालक किसी न किसी क्षेत्र में श्रेष्ठ होता है और उन प्रतिभाओं को उनके माता-पिता एवं दूसरे साथी छात्र-छात्राओं के सामने प्रस्तुत  करने से बालक की हीन भावना दूर होती है वही वह अपने प्रदर्शन को आगे भी प्रदर्शित करने में संकोच नहीं करते है , विद्यालय स्तर पर होने वाला यह कार्यक्रम बालक के सर्वांगीण विकास में सहायक सिद्ध होता हैं । उक्त विचार मंगलवार को निकटवर्ती राजकीय   उच्च माध्यमिक विद्यालय जिंद्रास (आसींद) में आयोजित वार्षिक उत्सव कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पद से संबोधित करते हुए  सामाजिक कार्यकर्ता नंदा दास वैष्णव ने व्यक्त किए । सर्व प्रथम मां सरस्वती के दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की गई । प्रधानाचार्य चंद्रप्रकाश पारीक सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए विद्यालय की गतिविधियों की जानकारी दी ।समारोह में अध्यक्ष ऊदल सिंह जालरिया  ने कहा कि बालक एक कच्ची कली होता है जिसे पौधे का रूप देने में विद्यालय एक महत्वपूर्ण कड़ी है और उसमें अध्यापक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है ।वार्षिक उत्सव कार्यक्रम में प्रतियोगिता में भाग लेने वाले बालक बालिकाओं एवं श्रेष्ठ व अनुशासित बच्चों व सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को पारितोषिक वितरण किया गया।  इस अवसर पर गुप्त भामाशाह द्वारा विद्यालय का मुख्य द्वार निर्माण करवाने की घोषणा की गई। कार्यक्रम का संचालन अध्यापक भेरू लाल बेरवा एवं श्यामलाल तेली ने किया । कार्यक्रम में शंभू सिंह सोलंकी ,जीवन खान ,नंदलाल रेगर ,नितेश चौहान ,सत्तू दरोगा ,श्रवण लाल चोयल ,हेमराज मीणा समेत कई उपस्थित थे । अंत में प्रधानाचार्य पारीक ने सभी का आभार प्रकट किया ।