boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे bhilwarah[email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

डेयरी पशुओं को संक्रामक रोगों से बचाएं: डॉ. यादव

डेयरी पशुओं को संक्रामक रोगों से बचाएं: डॉ. यादव

भीलवाड़ा (हलचल)। कृषि विज्ञान केन्द्र भीलवाड़ा की ओर से सोमवार को कोविड 19 के दौरान डेयरी पशुओं का स्वास्थ्य प्रबन्धन विषय पर ऑनलाइन प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉ. सीएम यादव ने कोरोना के दौरान पशुपालकों को हरे चारे की कटाई, पशुओं को संभालने, दूध पिलाने, दूध की बिक्री के दौरान 3-4 फीट की दूरी बनाते हुए मास्क का उपयोग करने और उचित अन्तराल पर साबुन से हाथ धोने की सलाह दी। डॉ. यादव ने बताया कि किसान गर्मी के समय मेें पशुओं के लिए आवास, पोषण और स्वास्थ्य संबंधी प्रबंधन की उचित व्यवस्था करें तथा एक प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइट या फेनोलिक कीटाणुनाशक से नियमित रूप से पशुओं के आवास को साफ  करें तथा पशुओं को कृमिनाशक दवा पिलाएं। पशुओं की उत्पादकता बनाए रखने के लिए वयस्क, दुधारू और गर्भवती गायों को 50 ग्राम क्षेत्र विशेष खनिज लवण प्रतिदिन दें।
शस्य वैज्ञानिक डॉ. केसी नागर ने बताया कि किसान कृषि के साथ पशुपालन को अपनाकर आमदनी बढ़ाएं। डॉ. नागर ने खरीफ  की फसल हेतु गर्मियों में गहरी जुताई का महत्व, बीजोपचार, खरपतवार नियन्त्रण, जैविक खेती एवं जैव उर्वरकों का प्रयोग करते हुए रसायन मुक्त उत्पादन करने का सुझाव दिया।
कृषि महाविद्यालय भीलवाड़ा के मृदा वैज्ञानिक डॉ. रविकान्त शर्मा ने कोविड 19 के दौरान सावचेत होकर कृषि कार्य करने की सलाह देते हुए मृदा में उपस्थित पोषक तत्वों की जानकारी दी। डॉ. शर्मा ने स्वस्थ धरा-खेत हरा के की बात कहते हुए फसल उत्पादन से पूर्व मृदा एवं जल परीक्षण तथा मृदा स्वास्थ्य कार्ड की सिफारिशों के अनुसार कृषि कार्य करने की बात कही।
कृषि विज्ञान केन्द्र अरणिया घोड़ा, शाहपुरा के फार्म मैनेजर गोपाल टेपन ने ग्रामीण क्षेत्रों में कोराना के तेजी से बढ़ते संक्रमण को देखते हुए किसानों को सामाजिक कार्यक्रमों में कम से कम भाग लेने और सामाजिक दूरी का निर्वहन करने की सलाह दी। प्रगतिशील कृषक देवेन्द्र त्रिपाठी ने कोरोना से बचाव हेतु योग एवं प्राणायाम करने की सलाह दी। प्रशिक्षण में 21 किसानों ने भाग लिया।