boltBREAKING NEWS
  • जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- दोषियों को बख्शेंगे नहीं
  • भीलवाड़ा : जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों से की शांति की अपील, बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान  
  • भीलवाड़ा : एसपी आदर्श सिधू ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- पुलिस का सहयोग करें और कानून व्यवस्था बनाए रखें 
  •  

भीलवाड़ा जिले में शत प्रतिशत महिला मेट लगाने का विरोध, शाहपुरा में किया प्रदर्शन, 5 जुलाई तक संशोधन नही तो जिला मुख्यालय पर होगा प्रदर्शन 

भीलवाड़ा जिले में शत प्रतिशत महिला मेट लगाने का विरोध, शाहपुरा में किया प्रदर्शन, 5 जुलाई तक संशोधन नही तो जिला मुख्यालय पर होगा प्रदर्शन 

शाहपुरा-मूलचन्द पेसवानी 
भीलवाड़ा जिले की सभी पंचायत समितियों में मनरेगा योजना में शत प्रतिशत महिला मेट लगाये जाने की कार्रवाई को अंसवैधानिक बताते हुए मनरेगा मेट प्रदेश संघ ने सोमवार को यहां पंचायत समिति में प्रदर्शन कर विकास अधिकारी को ज्ञापन दिया है। ज्ञापन में कहा गया है कि मनरेगा योजना रूरल एक्ट 2005 के प्रावधानों के अनुरूप ही मेट लगाये जाने का प्रावधान कराया जाए।
मनरेगा मेट प्रदेश संघ के प्रदेश संरक्षक रमेश सहारण व प्रदेश सचिव सुरेन्द्र नाथ की अगुवाई में शाहपुरा ब्लाॅक के पूर्व में रहे मेटो ने प्रदर्शन किया। बाद में विकास अधिकारी अमित कुमार जैन को ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन में कहा गया है कि जिले में 100 प्रतिशत ही महिला मेट लगाये जा रहे है जो अंसवैधानिक है। इस तरह का निर्णय राज्य सरकार व मनरेगा योजना एक्ट का उल्लगन है। इस पर विकास अधिकारी ने जिला परिषद की मुख्य कार्यकारी अधिकारी से मार्गदर्शन मांगने व मनरेगा मेट प्रदेश संघ का मांग पत्र वहां तक पहुंचाने का आश्वासन दिया।
बाद में पंचायत समिति में पत्रकारों से बात करते हुए मनरेगा मेट प्रदेश संघ के प्रदेश संरक्षक रमेश सहारण ने कहा कि 
दुर्भायपूर्ण तरीके से बिना किसी लिखित आदेश से शत प्रतिशत महिला मेट लगा दिये है। जो नियम विरूद्व है। इससे बेरोजगारी बढ़ी है। उन्होंने कहा कि ऐसा प्रदेश में कहीं पर भी नहीं है फिर केवल भीलवाड़ा जिले में ही क्यों किया गया है। उन्होंने चेतावनी दी है कि 5 जुलाई तक मेटों को लगाने के लिए नियमानुसार कार्रवाई नहीं की गई तो जिला मुख्यालय पर जिला परिषद व कलेक्टेªट का मेट संघ की ओर से घेराव कर प्रदर्शन किया जायेगा जिसकी जिम्मेदारी पंचायत राज व जिला परिषद की होगी।