boltBREAKING NEWS

रसधारा का त्रि दिवसीय नाट्य विमर्श संपन्न

रसधारा का त्रि दिवसीय नाट्य विमर्श संपन्न

 भीलवाड़ा बीएचएन। रसधारा सांस्कृतिक संस्थान द्वारा श्री कृष्ण हरिशोभा आश्रम, धांगडास में नाट्य विमर्श रखा गया जिसमे राष्ट्रीय स्तर के रंगकर्मी जोधपुर से डॉ सुनील माथुर, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय स्नातक अरु व्यास, अलवर से डॉ देशराज मीणा तथा दिल्ली से युवा रंगकर्मी रजीत सिंह जी मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित रहे | 

इस विमर्श मे नाट्य कला से सम्बंधित कई विषयों पर गहन चर्चा की गयी उसमे उपस्थित रंगसाधको द्वारा पूछे गए प्रश्नो का समुचित उत्तर से समाधान किया गया| इसके अतिरिक्त वेश्विक स्तर के नाट्य आंदोलनों को लेकर विस्तृत जानकारी भी दी | जहाँ एक और आधुनिक भारतीय रंगमंच के बर अक्ष विदेशी नाटकों के अनुवाद के प्रति आकर्षण की भी विवेचना की गयी | विख्यात रंग आलोचकों द्वारा आंचलिक नाटकों के मंचन की आवश्यकता पर बल दिया गया | इस कार्यक्रम मे प्रमुख रूप से रसधारा के रवि ओझा, अनुराग सिंह, कुलदीप सिंह, कोमल जोशी सहित लगभग 25 रंगसाधक मौजूद रहे|