boltBREAKING NEWS

सचिन बोले- चिंतन शिविर के बाद जल्द संगठनात्मक बदलाव करेगी कांग्रेस

सचिन बोले- चिंतन शिविर के बाद जल्द संगठनात्मक बदलाव करेगी कांग्रेस

जयपुर। पूर्व डिप्टी CM सचिन पायलट ने कांग्रेस के चिंतन शिविर के बाद युवाओं को पार्टी में लीडरशिप देने के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा- चिंतन शिविर में लगभग आधे डेलिगेट्स 40 साल से कम उम्र​ के हैं। युवाओं को प्राथमिकता दी गई है। देश के अलग-अलग राज्यों से आए युवा ग्राउंड लेबल से फीडबैक देंगे। ग्राउंड रिपोर्ट लेकर आगे की रणनीति तय करने में यह चिंतन शिविर बहुत अहम साबित होगा। मुझे लगता है इसके बाद पार्टी जल्द संगठनात्मक बदलाव करेगी। नई ऊर्जा का संचार होगा। हम सब मिलकर विधानसभा लोकसभा चुनाव की अभी से तैयारी करेंगे।

पायलट ने कहा- जब युवाओं को इतनी अहमियत दी है तो समझ सकते हैं। परिणाम क्या होगा, यह अभी नहीं कह सकते। लेकिन जो मेंडेट हमें मिला है उसमें पॉलिसी मेकिंग पर हमारा स्टैंड सामने आएगा। देश में जो मुद्दे हैं उन पर इश्यूज पर क्लेरिटी आनी चाहिए। लोग उन मुद्दों पर बीजेपी का स्टैंड जानते हैं, लेकिन कांग्रेस का स्टैंड कई बार साफ नहीं हो पाता।

देश में कांग्रेस ही एनडीए को हरा सकती है
पायलट ने कहा- सोनिया गांधी जी ने बहुत सोच-समझकर इस चिंतन शिविर को एक महत्वपूर्ण समय पर बुलाया है। दो-तीन राज्यों के चुनाव इस साल हैं। लोकसभा चुनाव भी दो साल बाद होने वाले हैं। ये बात सच है कि देश में एनडीए और भाजपा को राष्ट्रीय स्तर पर अगर कोई चुनौती देकर हरा सकता है तो वो कांग्रेस है। कांग्रेस पार्टी के साथ हमारे जो सहयोगी दल हैं, उन सब को साथ लेकर हम लोग रणनीति बनाना चाहते हैं।

बीजेपी और केंद्र सरकार देश के असली मुद्दों से ध्यान भटकाने का काम कर रही हैं। बीजेपी राज को अब 8 साल पूरे हो गए हैं। इन आठ सालों का लेखा-जोखा देना चाहिए। आज अर्थव्यवस्था का बुरा हाल है। महंगाई चरम सीमा पर पहुंच चुकी है। आज रोजगार में छंटनी हो रही है। कारखाने बंद हो रहे हैं।

आज भी यूपीए-कांग्रेस को दोष दे रही बीजेपी
पायलट ने कहा- हर चीज महंगी हो रही है। आज भी बीजेपी-केंद्र सरकार पीछे मुड़कर यूपीए सरकार और कांग्रेस पार्टी को दोष देते हैं। आठ साल राज करते हो गए और अब भी यूपीए राज को दोष देने का तुक नहीं रह जाता। इन आठ सालों में आपने क्या वैकल्पिक व्यवस्था तैयार की है, उसका कोई जवाब आता नहीं है। चिंतन शिविर में अलग-अलग समितियां बनी हैं। मैं राजस्थान से आर्थिक समिति का सदस्य हूं और चिदंबरम जी इसके संयोजक हैं। हमने 2-3 बैठकों में विस्तार से चर्चा की है। हम मध्यम वर्ग, नौजवानों की आवाज़ बनकर सड़कों पर आएंगे और वास्तविकता का परिचय केंद्र को अवगत कराएंगे।

पायलट के बयान के सियासी मायने
सचिन पायलट ने युवाओं को अहमियत देने का बयान देकर पार्टी के ओल्ड गार्ड्स नेताओं को मैसेज देने की कोशिश की है। इसके जरिए संकेत यह भी है कि आगे अब युवाओं को ही लीडरिशप मिलेगी।