boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

सोनिया जब तक चाहें रहेंगी अध्यक्ष, जाना है तो कांग्रेस छोड़कर जाएं- अमरिंदर

  सोनिया जब तक चाहें रहेंगी अध्यक्ष, जाना है तो कांग्रेस छोड़कर जाएं- अमरिंदर

चंडीगढ़
कांग्रेस पार्टी में बिहार चुनाव के बाद से ही सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ उठ रही आवाजों पर पंजाब के सीएम कैप्टन एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह ने प्रतिक्रिया दी है। पार्टी के आंतरिक मुद्दों को उठाने वाले नेताओं पर निशाना साधते हुए कैप्टन ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी में अब भी लोकतंत्र है। कैप्टन ने कहा कि सोनिया गांधी जब तक चाहेंगी वो कांग्रेस की अध्यक्षा रहेंगी। कैप्टन ने कहा कि जिन लोगों को पार्टी के विषयों को सार्वजनिक मंच पर उठाना है और उनके कोई मतभेद हैं वो चाहें तो कांग्रेस छोड़कर जा सकते हैं।

कौन कहता है कि कांग्रेस पार्टी में लोकतंत्र नहीं है। अगर आप कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं तो किसी भी मुद्दे को सर्वजनिक मंच पर नहीं बल्कि पार्टी के भीतर उठाना चाहिए। अगर आप कांग्रेस पार्टी छोड़ना चाहते हैं तो छोड़कर जाइए और फिर ऐसी बातें करिए। लेकिन अगर आप कांग्रेस पार्टी में हैं तो आपको ऐसे मुद्दे आंतरिक रूप से ही उठाना चाहिए।

'CWC तय करेगी कि कौन होगा अध्यक्ष'
कैप्टन ने आगे कहा कि सोनिया गांधी जब तक चाहेंगी वो तब तक पार्टी की अध्यक्षा रहेंगी और जब नहीं चाहेंगी तो वह पद छोड़ देंगी। इसके बाद वह और कांग्रेस की वर्किंग कमिटी तय करेगी कि अध्यक्ष कौन होगा। हालांकि अभी इसकी जरूरत ही कहां है।

कपिल सिब्बल ने उठाए थे लीडरशिप पर सवाल
बता दें कि कांग्रेस पार्टी के भीतर कपिल सिब्बल, गुलाम नबी आजाद, कार्ति चिदंबरम, शशि थरूर जैसे कई नेताओं ने हाल ही में पार्टी की लीडरशिप बदलने को लेकर बयान दिए थे। हाल ही में कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने एक अंग्रेजी अखबार को दिए इंटरव्यू में कहा है कि ऐसा लगता है कि पार्टी नेतृत्व ने शायद हर चुनाव में पराजय को ही अपनी नियति मान ली है। उन्होंने कहा कि बिहार ही नहीं, उपचुनावों के नतीजों से भी ऐसा लग रहा है कि देश के लोग कांग्रेस पार्टी को प्रभावी विकल्प नहीं मान रहे हैं।

कार्ति चिदंबरम ने भी की बदलाव की हिमायत
पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम के बेटे और तमिलनाडु से सांसद कार्ति चिदंबरम ने भी बिहार में हार के बाद कांग्रेस को आत्ममंथन की सलाह दी है। कुछ दिन पहले उन्होंने ट्वीट किया कि कांग्रेस के लिए यह आत्मविश्लेषण, चिंतन और विचार-विमर्श करने का समय है।