boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

फेरे के वक्त दूल्हा नहीं सुना पाया 2 का पहाड़ा, गुस्साई दुल्हन ने तोड़ी शादी

फेरे के वक्त दूल्हा नहीं सुना पाया 2 का पहाड़ा, गुस्साई दुल्हन ने तोड़ी शादी

महोबा। आपने अक्सर ऐसे किस्से सुने होंगे कि शादी में ऐन फेरे के वक्त दहेज या अन्य कारणों से शादी टूट गई या दुल्हन ने शादी करने से इनकार कर दिया, लेकिन हाल ही में महोबा में एक ऐसा ही अनोखा मामला सामने आया है, जब फेरे के वक्त दुल्हन ने दूल्हे के सामने ऐसी मांग रख दी कि जिसे दूल्हा पूरा नहीं कर पाया और शादी टूट गई। दरअसल फेरे के समय ने दुल्हन ने मांग की थी कि दूल्हा दो का पहाड़ा सुनाए, लेकिन दूल्हा नहीं सुना पाया और नाराज दुल्हन ने शादी करने से साफ इनकार कर दिया।

दूल्हे की शैक्षणिक योग्यता पर था शक

दुल्हन को अपने होने वाले पति की शैक्षणिक योग्यता पर पहले से शक था। दूल्हा जब बारात लेकर पहुंचा तो जयमाला का आदान-प्रदान होने से पहले दुल्हन ने कहा कि पहले दूल्हे को दो का पहाड़ा सुनाना पड़ेगा। लेकिन अशिक्षित दूल्हा दो का पहाड़ा भी नहीं सुना पाया। चूंकि शादी के दौरान दो परिवार के सदस्य और गांव के भी कई लोग एकत्र हुए थे, तभी यह पूरा घटनाक्रम हुआ। जब दूल्हा पहाड़ा नहीं सुना पाया तो दुल्हन ने शादी से साफ इनकार कर दिया। दूल्हन ने मंडप से बाहर निकलते हुए शादी से इनकार करते हुए कहा कि वह किसी ऐसे व्यक्ति से शादी नहीं कर सकती, जिसे गणित की मूल बातें पता नहीं हैं। ऐसे में परिवार व दोस्तों ने भी दुल्हन को बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन सभी नाकाम रहें।

महोबा के धवार गांव का मामला

यह पूरा घटनाक्रम महोबा जिले के धवार गांव का है। स्थानीय अधिकारी विनोद कुमार ने बताया कि यह एक अरेंज मैरिज थी और दुल्हन शिक्षित है, जबकि दूल्हा अशिक्षित है। दुल्हन के चचेरे भाई ने भी कहा कि वे यह जानकर चौंक गए कि दूल्हा अशिक्षित था। उसने कहा, "दूल्हे के परिवार ने हमें उसकी शिक्षा के बारे में अंधेरे में रखा था। वह स्कूल भी नहीं गया होगा। दूल्हे के परिवार ने हमें धोखा दिया है। दुल्हन के भाई ने भी अपनी बहन की तारीफ करते हुए कहा कि मेरी बहादुर बहन सामाजिक वर्जनाओं के डर के बिना बाहर चली गई।" बाद में दोनों पक्षों आपसी समझौते से मामले का निराकरण किया और पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। समझौते के मुताबिक दूल्हा और दुल्हन के परिवार वाले उपहार और आभूषण एक-दूसरे को लौटा देंगे।