boltBREAKING NEWS
  •  
  • भीलवाड़ा हलचल app को अपडेट करें
  •  

 पुलिस ने बुलाया था पूछताछ के लिए, डॉक्टर ने थाने में ही काट ली हाथ की नसें

 पुलिस ने बुलाया था पूछताछ के लिए, डॉक्टर ने थाने में ही काट ली हाथ की नसें

 बीकानेर। एक निजी अस्पताल के डॉक्टर धनपत डागा ने सदर थाना परिसर में ही तनाव में आकर हाथ की नसें काट ली। डॉक्टर को पीबीएम अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। दरअसल,रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी के मामले की जांच कर रही पुलिस ने डॉक्टर को पूछताछ के लिए बुलाया था। बता दें कि इस डॉक्टर का नाम एक स्टॉकिस्ट ने बिल में अंकित किया था। ऐसे में पुलिस इस डॉक्टर से यह जानना चाहती थी कि उन्होंने रेमडेसिविर इंजेक्शन खरीदा था या नहीं।  
पुलिस सूत्रों के अनुसार, रविवार रात रेमडेसिविरज इंजेक्शन की कालाबाजारी को लेकर दर्ज मामले में पुलिस ने जीवन रक्षा अस्पताल के स्टॉफ  को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। डॉक्टर डागा भी इसी हॉस्पिटल में कार्यरत है।  डॉ. डागा के नाम से एक स्टॉकिस्ट ने बिल काटे हुए हैं। इन्हीं बिलों के बारे में पूछताछ करने के लिए पुलिस ने उन्हें बुलाया था। जब डा. डागा अपना बयान देने पहुंचे तो जांच अधिकारी अन्य से पूछताछ में व्यस्त थे। इसके चलते डॉ. डागा को कुछ देर बाहर इंतजार करने के लिए कहा । डागा, अपनी कार में चले गए। जहां उन्होंने तनाव में आकर अपने हाथ की नसें काट लीं। इसकी जानकारी मिलते ही पुलिस  उन्हें तुरंत पीबीएम अस्पताल ले गई।  घटना की जानकारी मिलने पर अस्पताल के ट्रॉमा सेंटर पर डॉक्टर्स एसोसिएशन के कई पदाधिकारी  वहां पहुंचे।  डॉ. डागा की स्थिति पहले से बेहतर बताई जा रही है। उधर, सदर थानाधिकारी का कहना था कि पूछताछ के लिए अकेले डागा को नहीं अस्पताल के स्टॉफ  को भी थाने बुलाया गया था।