boltBREAKING NEWS
  • जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- दोषियों को बख्शेंगे नहीं
  • भीलवाड़ा : जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों से की शांति की अपील, बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान  
  • भीलवाड़ा : एसपी आदर्श सिधू ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- पुलिस का सहयोग करें और कानून व्यवस्था बनाए रखें 
  •  

जेल में बंदी से मार-पीट कर तोड़ा हाथ, कैदी ने जेलर और प्रहरी पर लगाया आरोप

 जेल में बंदी से मार-पीट कर तोड़ा हाथ, कैदी ने जेलर और प्रहरी पर लगाया आरोप

उदयपुर,। जिले की आदिवासी बहुल उपखंड कोटड़ा की उप जेल में एक बंदी से मारपीट कर हाथ तोड़ने की शिकायत मिली है। उसने जेलर और एक प्रहरी पर मारपीट का आरोप लगाया है। इस मामले में पीड़ित की शिकायत पर पुलिस मामला दर्ज कर जांच में जुटी है।मिली जानकारी के अनुसार घटना का खुलासा बंदी के रिहाई के समय हुआ, बुधवार देर रात उसे जेल से रिहा किया गया था। पीड़ित मिरिया पुत्र मोता गमार ने परिजनों को बताया था कि उसकी जेलर और एक प्रहरी ने बर्बरता से पिटाई की। मिरिया ने आरोप लगाया कि जेलर धर्मवीर रिहाई से पहले उससे दस हजार रुपए देने के लिए दबाव बना रहा था। जब उसने पैसे दिलाने से इनकार कर दिया तो जेलर ने प्रहरी पुष्पेन्द्र के साथ मिलकर उसकी लाठियों से बर्बरता से मारपीट की। जिससे उसका एक हाथ की हड्डी टूट गई, जबकि हाथ-पैर, गर्दन सहित शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोटें आई।कोटड़ा थानाधिकारी पवन सिंह का कहना है कि पीड़ित की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। मिरिया को आबकारी अधिनियम के तहत पिछले दिनों गिरफ्तार किया था और वह न्यायिक हिरासत में कोटड़ा की जेल में बंद था। उसके जेलर और प्रहरी पर लगाए गए आरोप की जांच की जा रही है। पीड़ित का मेडिकल कराया गया है। उसके शरीर में चोट के निशान हैं।इधर, जेलर धर्मवीर का कहना है कि वह अभी तक मिरिया नामक बंदी से नहीं मिली। उन्हें तो यह भी नहीं पता कि उसे किसने जेल में रिसिव किया। इस मामले में उनका नाम जबरन घसीटा जा रहा है।