boltBREAKING NEWS
  • जयपुर : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की प्रदेश के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- दोषियों को बख्शेंगे नहीं
  • भीलवाड़ा : जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों से की शांति की अपील, बोले- अफवाहों पर न दें ध्यान  
  • भीलवाड़ा : एसपी आदर्श सिधू ने की लोगों से शांति बनाए रखने की अपील, कहा- पुलिस का सहयोग करें और कानून व्यवस्था बनाए रखें 
  •  

प्रशिक्षण में सीखे ज्ञान को शिक्षकों तक पंहुचाने में ही कार्यक्रम की सफलता- एसडीएम यादव

प्रशिक्षण में सीखे ज्ञान को शिक्षकों तक पंहुचाने में ही कार्यक्रम की सफलता- एसडीएम यादव

उपखण्ड अधिकारी ने किया प्रशिक्षण शिविर का औचक निरीक्षण
शाहपुरा-मूलचन्द पेसवानी 
शाहपुरा के जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में चल रहे छह दिवसीय बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान (एफएलएन) आधारित केआरपी प्रशिक्षण का औचक निरीक्षण करते हुए उपखण्ड अधिकारी सुनीता यादव ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत निपुण भारत कार्यक्रम में बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान आधारित प्रशिक्षण में कार्यक्रम की अवधारणा को शिक्षकों तक पंहुचाने में केआरपी की अहम भूमिका है। सीखे ज्ञान को शिक्षकों तक पंहुचाए तथा बालकों को आनन्ददायी शिक्षण के लिए शिक्षकों को तैयार करने का प्रयास करें ताकि सरकार के शिक्षा से पिछड़ते बालकों को आंगनबाड़ी व विद्यालय से जोड़ कर निरक्षरता को समाप्त किया जा सके। रूचिकर शिक्षण होने से बच्चे शिक्षा से वंचित नहीं होंगे। 
उन्होने एसआरजी से माड्यूल के दौरान पीपीटी के उपयोग के बारे में जानकारी लेते हुए पीपीटी के साथ ही केआरपी को मुख्य बिन्दुओं को सूचीबद्ध कराने को कहा ताकि क्षेत्र के शिक्षकों को शिक्षण कराने में आसानी हो सके। वहीं तहसीलदार नारायण लाल जीनगर ने एसआरजी व केआरपी के आपसी समन्वय के साथ प्रशिक्षण कराने तथा कक्षा कक्षों में गतिविधि आधारित प्रशिक्षण कराने को बेहतर बताते हुए प्रशंसा की। उनके साथ तहसीलदार नारायणलाल जीनगर भी मौजूद रहे। 
मुख्य ब्लाक शिक्षा अधिकारी शाहपुरा महावीर शर्मा ने केआरपी से प्रशिक्षण की व्यवस्थाओं की जानकारी ली। प्रशिक्षण प्रभारी  कैलाश मण्डेला ने प्रशिक्षण की गतिविधियों के बारे में विस्तार से बताया। उपप्रधानाचार्य भगवादास वैष्णव ने कार्यक्रम की आवश्यकता को प्रस्तुत किया। प्रशिक्षण के चैथे दिन राज्य संदर्भ व्यक्ति रतन लाल शर्मा, शान्तिलाल छापरवाल, नरपतसिंह, प्रशान्त चैधरी, कैलाश पारीक ने केआरपी के अलग अलग दल तैयार कर बुनियादी संख्या ज्ञान के प्रमुख घटक एवं संख्यापूर्व अवधारणा के साथ ही पाठ्यपुस्तकों से सह संबन्ध के बारे में विस्तार से बताया। औचक निरीक्षण के दौरान केआरपी की उपस्थिति ली जो सही पाई गई। प्रातः कालीन सत्र में केआरपी भवानी शंकर भट्ट ने प्रशिक्षण प्रभारी मण्डेला को स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित किया और विभिन्न दक्षताओं आधारित शानदार प्रस्तुतियां दी। विशिष्ट अतिथि  इंजिनियर अंकुश सैन ने पर्यावरण संरक्षण पर अपनी उपलब्धियों को बताया और सभी से वृक्षारोपण करने का संदेश दिया।