boltBREAKING NEWS

रोजाना सिर्फ 15 मिनट चंद्रमा की किरणों में बैठने से मिलेंगे ये अद्भुत फायदे

रोजाना सिर्फ 15 मिनट चंद्रमा की किरणों में बैठने से मिलेंगे ये अद्भुत फायदे

आयुर्वेद, 'जीवन का विज्ञान', पृथ्वी पर चिकित्सा की सबसे पुरानी प्रणालियों में से एक है और स्वास्थ्य के स्रोत के रूप में प्रकृति के तत्वों के साथ संरेखण में रहने का ज्ञान प्रदान करती है। प्रकृति के चक्रों और सतत लयबद्ध प्रभावों से जीना, सबसे बड़ा उपचारक है।यह दर्शन चंद्र स्नान से प्राप्त लाभों के बारे में सिखाता है। यह खगोलीय पिंड बिना उत्तेजित हुए, सूर्य की जीवंत शक्तियों को प्रतिबिंबित करता है। चंद्र स्नान, विशेष रूप से अमावस्या और पूर्णिमा के बीच, शरीर की प्रणाली से अधिक गर्मी, क्रोध और असंतुलन को शांत करने का एक प्रभावी तरीका है और इसे कई रोग उपचारों में मदद करने के लिए जाना जाता है।

चंद्र स्नान बिल्कुल उसी सिद्धांत का पालन करता है जैसे सूर्य स्नान। जब चंद्रमा पूर्ण दृश्य में हो तब बाहर जाएं और उसके प्रकाश को अवशोषित करें। ऐसी जगह चुनने की कोशिश करें जो आरामदेह और पर्सनल हो। आप इसे कपड़ों के साथ या कम कपड़ों के साथ लेटकर या टहल कर ले सकते हैं। आपको कितने समय तक चंद्रमा का स्नान करना चाहिए, इसकी कोई समय सीमा नहीं है - अनुभव पूरी तरह आप पर निर्भर करता है। लेकिन कम से कम 15 मिनट ऐसा करने की सलाह दी जाती है। 

इस बारे में विस्‍तार से हमें आयुर्वेदिक एक्‍सपर्ट निति सेठ जी बता रही हैं। उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से यह टिप्‍स फैन्‍स के साथ शेयर किए हैं। उनका कहना है, 'पैटर्न समय के सभी तत्वों में मौजूद हैं। वैदिक कैलेंडर वर्ष प्रकृति पर आधारित है कि चंद्रमा का ढलना और कम होना प्रत्येक महीने की शुरुआत और अंत का संकेत देता है। जैसे सूर्य का उदय और अस्त होना हमारे दिन को निर्धारित करता है, वैसे ही चंद्रमा हमारे महीने को निर्धारित करता है। और जैसे हमें सलाह दी जाती है कि सूर्य के अनुसार कैसे रहना है, इस पर सुझाव हैं कि हम खुद को चंद्रमा के चक्र के साथ कैसे संरेखित कर सकते हैं।'

'जैसे सूरज गर्म होता है, वैसे ही चांद ठंडा हो जाता है। यह शरीर और मन पर सुखदायक और शांत प्रभाव डालता है। यदि आप अत्यधिक गर्म महसूस कर रहे हैं, माइग्रेन, चकत्ते, सूजन, ब्‍लडप्रेशर या अधिक शारीरिक गर्मी से जुड़ी किसी अन्य स्थिति से पीड़ित हैं, तो चांदनी में 10-15 मिनट के लिए स्नान करें।' 'जैसे ही चंद्रमा आकाश में आता है, यह हमारी गतिविधियों को धीमा करने का संकेत देता है। हमें रात को व्यर्थ समय के रूप खराब नहीं करना चाहिए बल्कि भरपूर नींद लेनी चाहिए क्‍योंकि नींद दिन का एक अत्यंत महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह हमें आने वाले दिन के लिए खुद को फिर से जीवंत और तरोताजा करने का समय होता है।'  

'चंद्रमा और मेंस्ट्रुअल साइकिल। यह कोई संयोग नहीं है कि दोनों 28 दिन की साइकिल पर दौड़ते हैं। परंपरागत रूप से जब अधिकांश महिलाएं संतुलित और स्वस्थ जीवन जीती थीं, उनके मेंस्ट्रुअल साइकिल चंद्र चक्र के साथ संरेखित होते थे। समय के साथ, स्थूल और सूक्ष्म असंतुलन के कारण, हम सभी इस संरेखण का अनुभव नहीं करते हैं - और यह ठीक है।' आइए चांदनी में 10-15 मिनट के लिए स्नान करने के फायदे और तरीके के बारे में विस्‍तार से जानें।

 

चंद्र स्नान के कुछ फायदे

  • माइग्रेन से राहत 
  • हाई ब्‍लडप्रेशर के उपचार में सहायक
  • पित्ती का इलाज 
  • चकत्ते होते हैं दूर 
  • सूजन की स्थिति को करता है ठीक 
  • प्रजनन क्षमता को बढ़ाता है
  • तनाव और चिंता को दूर करता है 
  • खासतौर पर महिलाओं के लिए हॉर्मोनल रूप से फायदेमंद 

चूंकि चांदनी वास्तव में सूर्य के प्रकाश को दर्शाती है, यह विटामिन-डी के लेवल को भी बढ़ा सकती है और हमें नाइट्रिक ऑक्साइड प्रदान करती है, जो ब्लड फ्लो को नियंत्रित करने और ब्‍लडप्रेशर को कम करने में मदद करने के लिए जाना जाता है।

तनाव होता है कम

दिन-प्रतिदिन तनावपूर्ण घटनाएं हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ती हैं। चंद्र स्नान आपको तनाव कम करने में मदद कर सकता है। आप चंद्र प्रकाश के माध्यम से अपनी आंतरिक शक्ति को प्रतिबिंबित और ध्यान कर सकते हैं।

एनर्जी बूस्टर

चांदनी सूर्य का परावर्तित प्रकाश है। चन्द्रमा जो ऊर्जा उत्सर्जित करता है वह ऊष्मा और अग्नि से रहित है; आपके मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए इसमें अपार ऊर्जा है। यह सकारात्मकता, दृढ़ इच्छा शक्ति, साहस को बढ़ाता है। आप अपने परेशान विचारों से निपटने में सक्षम होते हैं।