boltBREAKING NEWS
  •  
  • भीलवाड़ा हलचल app को अपडेट करें
  •  

कल भारत के दो शहरों में कुछ ऐसा दिखेगा सूर्य ग्रहण, जानें टाइमिंग और इससे जुड़ी पूरी डिटेल्स...

कल भारत के दो शहरों में कुछ ऐसा दिखेगा सूर्य ग्रहण, जानें टाइमिंग और इससे जुड़ी पूरी डिटेल्स...

 इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 10 जून दिन गुरुवार को लगेगा. सूर्य ग्रहण 10 जून को दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से प्रारंभ होगा. शाम 6 बजकर 41 मिनट पर समाप्त होगा. ग्रहण काल पूरे 5 घंटे तक रहेगा. सूर्य ग्रहण के समय सभी नौ ग्रहों में से चार ग्रह एक ही राशि में मौजूद रहेंगे. वहीं बाकि के पांच ग्रह 5 अलग अलग राशियों में मौजूद रहेंगे. वृषभ राशि में सूर्य, बुध, राहु और चंद्रमा रहेंगे. जबकि शुक्र मिथुन राशि में मंगल कर्क राशि में केतु वृश्चिक में शनि मकर में व गुरु कुंभ राशि में स्थित रहेंगे. आइए जानते है सूर्य ग्रहण से जुड़ी पूरी जानकारी...

 

भारत में ग्रहण का प्रभाव

भारत में ये ग्रहण दिखाई नहीं दे रहा है. इसलिए इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा. ग्रहण का असर सभी राशियों पर देखने को मिलेगा. सिंह और धनु वालों के लिए सूर्य ग्रहण बेहद ही शुभ है. धन लाभ होने के आसार रहेंगे. वहीं मेष, वृषभ, कन्या और तुला वालों के लिए सूर्य ग्रहण कष्टदायी साबित हो सकता है. इसलिए सतर्क रहें.

 

सूतक काल मान्य होगा

ग्रहण शुरू होने से 8 घंटे पहले सूतक काल लगता है. लेकिन 10 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत में आंशिक होगा, इसलिए इस ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा, जिसके चलते मंदिरों के कपाट भी बंद नहीं किए जाएंगे.

 

 

क्या भारत में दिखेगा 'रिंग ऑफ फायर' ?

भारत में 'रिंग ऑफ फायर' सूर्य ग्रहण दिखाई नहीं देगा. उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस में पूर्ण रूप से दिखाई देगा. वहीं आप इसे ऑनलाइन देख सकेंगे.

 

इन जगहों पर दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

अरुणाचल प्रदेश में दिबांग वन्यजीव अभयारण्य के पास से शाम लगभग 5 बजकर 52 मिनट पर इस खगोलीय घटना को देखा जा सकेगा. वहीं, लद्दाख के उत्तरी हिस्से में शाम 6 बजकर 15 मिनट पर सूर्यास्त होगा. शाम लगभग 6 बजे सूर्य ग्रहण देखा जा सकेगा. वहीं, उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया में आंशिक व उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस में पूर्ण रूप से दिखाई देगा.

 

जानें कब किस रूप में दिखेगा ग्रहण

भारतीय समयानुसार सुबह 11 बजकर 42 मिनट पर आंशिक सूर्य ग्रहण होगा. वहीं दोपहर 3 बजकर 30 मिनट पर वलयाकार रूप लेना शुरू करेगा. इसके बाद फिर शाम 4 बजकर 52 मिनट तक आकाश में सूर्य अग्नि वलय यानी आग की अंगूठी की तरह दिखाई देगा.

.कुछ ऐसा दिखेगा सूर्य ग्रहण

इस साल का पहला सूर्य ग्रहण भारत के सिर्फ दो ही राज्यों में दिखाई देगा. ये ग्रहण अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में ही सूर्यास्त से कुछ समय पहले देखा जा सकेगा. यह वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. यह खगोलीय घटना तब होती है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में आ जाते हैं.

 

सूर्य ग्रहण के दौरान भूलकर भी न करें ये कार्य

  • इस दौरान किसी भी नए व मांगलिक कार्य का शुभारंभ नहीं किया जाता है.

  • ग्रहण काल के समय भोजन पकाना और खाना दोनों ही मना होता है.

  • ग्रहण काल में भगवान की मूर्ति छूना और पूजा करना भी मना होता है.

  • तुलसी के पौधे को छूने की मनाही होती है.

  • ग्रहण के समय सोने से भी बचना चाहिए.

  • इस दौरान दांतों की सफ़ाई, बालों में कंघी, शौच करना, नए वस्त्र पहनना, वाहन चलाना आदि कार्यों को भी न करने की सलाह दी जाती है.

 

वृषभ राशि और मृगशिरा नक्षत्र लगेगा ये ग्रहण

इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव वृषभ राशि और मृगशिरा नक्षत्र में सबसे ज्यादा पड़ेगा. ये एक वलयाकार सूर्य ग्रहण होगा. जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, लेकिन उसका आकार पृथ्वी से देखने पर इतना नजर नहीं आता कि वो सूर्य को पूरी तरह ढक सके, तो ऐसी स्थिति को वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते हैं.

 

इन देशों में दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

10 जून दिन गुरुवार को सूर्य ग्रहण दोपहर 1 बजकर 42 मिनट पर शुरू होकर शाम 6 बजकर 41 मिनट पर खत्म होगा. ये ग्रहण मुख्य रूप से उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया में आंशिक व उत्तरी कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस में पूर्ण रूप से दिखाई देगा. इस सूर्य ग्रहण का प्रभाव वृषभ राशि और मृगशिरा नक्षत्र में सबसे ज्यादा दिखेगा.

 

भारत के इन दो शहरों में दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

इस साल का पहला सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse 2021) भारत में केवल सूर्यास्त से कुछ समय पहले अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में ही दिखेगा.