boltBREAKING NEWS

भीलवाड़ा के ढाई सौ तीर्थयात्री फंसे गंगोत्री में,कलेक्टर मोदी ने मदद की पहल की,छोटी गाड़ियों को जाने की मिली छूट

भीलवाड़ा के ढाई सौ तीर्थयात्री फंसे गंगोत्री में,कलेक्टर मोदी ने मदद की पहल की,छोटी गाड़ियों को जाने की मिली छूट

भीलवाड़ा /गंगोत्री(प्रहलाद तेली)। भीलवाड़ा से चार धाम की यात्रा पर गए ढाई सौ महिला और पुरुष गंगोत्री में भूस्खलन के कारण 2 दिन से फंसे हुए हैं। उनके सामने खाने पीने का संकट आ गया है । जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने लोगों की मदद की पहल करते हुए वहां के कलेक्टर से बात की है, शुक्रवार सुबह रास्ता साफ होने के बाद प्रशासन ने छोटी गाड़ियों को उत्तरकाशी की ओर जाने की छूट दे दी ।

गंगोत्री से उत्तरकाशी के लिए चार बसों और छोटे वाहनों से रवाना हुए लोग गंगरानी के निकट भूस्खलन होने से फंस गए हैं मौके से दूरभाष पर हलचल को अशोक अग्रवाल ने बताया कि भीलवाड़ा से ढाई सौ लोग गंगोत्री के दर्शन कर कल शाम लौट रहे थे तभी 4:00 बजे के आसपास भारी भूस्खलन होने के कारण सड़क मार्ग अवरुद्ध हो गया और वह सभी लोग रास्ते में फंस गए उन्होंने बताया कि जहां में फंसे हैं वहा छोटी मोटी होटल हैं लेकिन उनके पास का राशन भी पूरा नहीं था और भीलवाड़ा के ढाई सौ लोगों के साथ ही गुजरात और अन्य प्रदेशों के करीब 4000 लोगों के वहां फसे होने से खाने पीन  की राशन सामग्री भी होटलों पर खत्म हो गई है।  यात्रियों में शामिल भीलवाड़ा की एक महिला सुनीता ने कहा कि खाने पीने के संकट के साथ ही उन्हें सर्दी का भी सामना करना पड़ रहा है उन्होंने सरकार से तत्काल बचाव के उपाय करने की मांग की है।अशोक अग्रवाल के मुताबिक छोटे रेस्टोरेंट में एक कमरे में 6 से अधिक लोग ठहरे हुए है। रात आठ बजे तक भोजन सहित अन्य प्रबंध नहीं हुए थे। रेस्टोरेंटों में भी जो स्टॉक था, वो समाप्त हो गया है। इधर, तीर्थयात्रियों के फंसे होने की जानकारी मिलने पर परिजनों ने भी फोनकर कुशलक्षेम पूछी। यात्रियों ने परेशानी बयां करने के साथ ही स्वयं के सुरक्षित होने की जानकारी दी, जिस पर परिजनों ने राहत की सांस ली। हालांकि अब भी कई यात्री बसों में ही रात बिताने को मजबूर है जबकि कुछ आसपास के होटलों में ठहरे हैं

भीलवाड़ा के यह लोग फंसे 

कैलाश जागेटिया दिनेश अग्रवाल अशोक अग्रवाल मीनाक्षी देवांशी के साथी ढाई सौ लोग शामिल है

जिला कलेक्टर आशीष मोदी ने हलचल को बताया कि भीलवाड़ा के यात्रियों के फंसे होने की उन्हें जानकारी मिलते ही उन्होंने वहां के जिला कलेक्टर से बात की और वहां फंसे लोगों हर संभव मदद करने के लिए कहां है।

छोटी गाड़ियों को मिली छूट

भूस्खलन के कारण गगरानी में फंसे 50 यात्रियों की छोटी गाड़ियों को रास्ता साफ हो जाने के बाद उत्तरकाशी की ओर जाने की छूट दे दी गई है जबकि अभी बस और ट्रक जैसे भारी वाहनों को वहीं रुका हुआ है भीलवाड़ा के अशोक अग्रवाल ने बताया कि वह और उनके 9 साथी छोटी गाड़ी से उत्तरकाशी के लिए रवाना हो गए हैं जबकि उनकी साथ वाली बसें और तीर्थयात्री अभी वहीं अटके हुए हैं संभावना है कि उन्हें भी जल्दी ही राहत मिल जाएगी