boltBREAKING NEWS
  • रहें हर खबर से अपडेट भीलवाड़ा हलचल के साथ
  • भीलवाड़ा हलचल पर समाचार या जानकारी भेजे [email protected]
  • सबसे ज्यादा पाठकों तक पहुँच और सबसे सस्ता विज्ञापन सम्पर्क करें  6377 364 129
  •  

गंगापुर में मिले दो मासूम बच्चों को समाज के लोगों ने किया परिवारजनों के हवाले

गंगापुर में मिले दो मासूम बच्चों को समाज के लोगों ने किया परिवारजनों के हवाले

 

गंगापुर (सुरेश शर्मा)-  4 दिन पूर्व दो मासूम बच्चे भटकते हुए गंगापुर कस्बे में पहुंचे। दोनों नाबालिग बच्चे भील समाज थे,  समाज के लोगों ने गंगापुर पुलिस को सूचना दी, अपने घर पर रखा उनके परिजनों की तलाश की, आखिर उनके परिजनों का पता चला और परिजन आज दोनों मासूम बच्चों को लेने के लिए गंगापुर पहुंचे। दोनों मासूम बालक दिनेश पुत्र पेमाराम भील उम्र 10 वर्ष, जितेंद्र भील उम्र 12 वर्ष पुत्र  भील निवासी नाला जिला पाली 8 दिन पूर्व उज्जैन के निकट से निकले थे। ट्रेन व बस की सहायता से गंगापुर तक पहुंच गए। उनके पास खाने-पीने व वापस जाने का पैसा नहीं होने के कारण सहाड़ा चौराहे पर रोते बिलखते मिले। भील समाज के लोग आगे आए दोनों मासूमों के परिवार जनों का पता लगाना शुरू किया। आखिर 4 दिन में उनकी माता कमला भील, मामा हीराराम भील, सरपंच पति सकाराम भील गंगापुर पहुंचे। 8 दिन से भटक रहे इन दोनों मासूम बच्चों को उनके परिवारजनों को गंगापुर पुलिस थाने में सुपुर्द किया।

दोनों बालकों ने दूसरी कहानी बताइए जिसके कारण 4 दिन में लगा परिजनों का पता

8 दिन पूर्व उज्जैन के निकट दरगाह राम देवासी के यहां पर भैड़ चराने का काम करने वाले दोनों मासूम बालक दिनेश और जितेंद्र भील वहां से भागकर निकले थे। उन्हें नहीं पता था कि वह आ जाएंगे, ट्रेन और बस की सहायता से गंगापुर तक पहुंच गए। लेकिन दोनों बालकों ने यहां समाज के लोगों को दूसरी कहानी बताई अपने गांव रोजडा पाली जिले से रवाना होकर अपनी बहन से मिलने के लिए दो सगे भाई पोटला के लिए रवाना हुए। किसी भी तरह पोटला तो पहुंच गए। लेकिन वहां उनकी बहन नहीं मिली, दोनों सगे भाइयों के पास दो वक्त की रोटी व वापस जाने का किराया भी नहीं होना बताया। घर का पता व परिवारजनों का नाम गलत बताने से दोनों मासूम बच्चों के परिवार जनों को ढूंढने में समय लगा, आखिर 4 दिन बाद परिजन गंगापुर पहुंचे और अपने बच्चों को साथ ले गए।

दोनों बच्चों को समाज माधवलाल भील व रतन लाल भील अपने घर ले गए खाना खिलाया, समाज के लोग दोनों बच्चों को  इनके गांव छोड़ने की तैयारी की लेकिन कोरोना महामारी के चलते भेजने की स्वीकृति नहीं मिल पाई। जिसके कारण रतन लाल भील को इन दोनों बच्चों को 3 दिन अपने घर रखना पड़ा।