boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

VIDEO सरकारी जमीन से बेदखल परिवारों को इंदिरा रसोई से खाने को मिली कच्ची बाटियां, पूर्व मंत्री बोले, बाटियां ऐसी कि जानवर भी नहीं खाये

VIDEO सरकारी जमीन से बेदखल परिवारों को इंदिरा रसोई से खाने को मिली कच्ची बाटियां, पूर्व मंत्री बोले, बाटियां ऐसी कि जानवर भी नहीं खाये

 भीलवाड़ा हलचल। पातोला महादेव रोड़ पर सरकारी जमीन बेदखल किये गये परिवारों को कहने को तो इंदिरा रसोई से खाना दिया जा रहा है, लेकिन यह खाना खाने के लायक नहीं है। लोगों को खाने के रूप में दी गई बाटियां सीकी हुई न होकर कच्ची थी। ऐसे में बिना खाये रात गुजारने के बाद करीब दो दर्जन परिवार शुक्रवार को पूर्व मंत्री कालूलाल गुर्जर से मिले और उन्हें खाने में मिली कच्ची बाटियां दिखाते हुये अपनी पीड़ा बयां की। इसे लेकर पूर्व मंत्री गुर्जर ने कहा कि जो बाटियां इन लोगों को दी गई, उन्हें इंसान तो दूर जानवर भी नहीं खाते हैं। उन्होंने प्रशासन से बात कर इस खाने और असहाय गरीबों के साथ किये जा रहे अन्याय की जांच की मांग की है। 

गुर्जर ने बताया कि शुक्रवार दोपहर पातोला महादेव क्षेत्र से करीब दो दर्जन परिवारों की महिलायें, पुरुष और बच्चे उनसे मिले। ये लोग, पिछले माह दस सितंबर को सरकारी भूमि से अतिक्रमण हटाकर बेदखल किये गये थे। गुर्जर ने बताया कि इन लोगों को कम्यूनिटी हाल में ठहराया गया है। जहां इन्हें इंदिरा रसोई से खाना दिया जा रहा है।  गुर्जर ने कहा कि खाना देखकर मुझे दु:ख हो रहा है कि इन लोगों को ऐसा खाना दिया जा रहा है, जिसे जानवर भी नहीं खाते। बाटियों के नाम पर आटा गूंथ कर उसके गोले बनाने के बाद राख में काली करने के बाद ये बाटियां इन लोगों को खाने के लिए भिजवा दी गई। गुर्जर ने कहा कि ये बाटियां न तो सीकी हुई है और न उबली हुई। कच्ची बाटियां खाने के लिए दे दी गई। जिसे खाने से ये गरीब लोग बीमार हो सकते हैं। उन्होंने सरकार पर इन गरीब लोगों के  साथ खाने के नाम पर अन्याय करने का आरोप लगाया है। उन्होंने यह भी कहा कि इन लोगों को एक ही समय खाना दिया जा रहा है, जो भी खाने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि इन लोगों ने एक और मांग उनके समक्ष रखी है कि उन्हें जगह दिलाई जाये। इस पर सभापति से बात की है। गुर्जर ने कहा कि कच्चा खाना देने को लेकर एडीएम से भी बात कर व्यवस्था सुधारने के लिए कहा है। साथ ही चेतावनी भी दी कि अगर व्यवस्था नहीं सुधरी तो वे, इन लोगों के साथ है और इनके लिए जो भी करना पड़ेगा, करेंगे। 
 बाद में ये लोग कलेक्ट्री पहुंचे और आपबीती प्रशासन को बताई और कच्ची बाटियां दिखाकर रोष भी जताया। 
रात को भूखे सोये...
पीडि़त मन्नु ने कहा कि रात को ये कच्ची बाटियां उन्हें खाने के लिए दी गई। इंदिरा रसोई से आई ये बाटियां खाने लायक नहीं थी। ऐसे में बच्चों सहित परिवार के सभी लोग भूखे ही सोये। 
दाल में भी निकलती है लटेंं
मन्नु ने यह भी कहा कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ। इंदिरा रसोई से आने वाली दाल में भी लटें निकलती है। ये दाल खाने से आये दिन बच्चे बीमार हो रहे हैं। उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ता है। ये ही बात इन परिवारों के साथ आये एक मासूम बच्चे फिरदौस ने भी कही। उसने एक ही समय खाना मिलने का आरोप भी लगाया है। 
शिकायत करने पर कहा गया जो है ले जाओ
महिला मन्नु ने यह भी कहा कि कच्ची बाटियां देखकर उन्होंने उलाहना दिया तो खाना देने वालों ने यह कहा कि जो है ले जाओ। 
10 सितंबर को किया था बेदखल
साहिद ने कहा कि ये परिवार पातोला महादेव रोड पर कच्ची झोंपडिय़ा बनाकर उनमें रह रहे थे। नगर परिषद ने 10 सितंबर को इन झोंपडिय़ों को हटा दिया। इसके बाद परिवारों को स्कूल में ठहराया गया है। 

 

संबंधित खबरें