boltBREAKING NEWS
  •  
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

वैश्य समाज राजनीति एवं प्रशासनिक सेवाओं में अपेक्षित भागीदारी नहीं होने से सर्वाधिक उपेक्षित- गुप्ता

वैश्य समाज राजनीति एवं प्रशासनिक सेवाओं में अपेक्षित भागीदारी नहीं होने से सर्वाधिक उपेक्षित- गुप्ता

भीलवाड़ा (हलचल)। राजस्थान वैश्य फैडरेशन के नए अध्यक्ष एनके गुप्ता, प्रदेश प्रभारी एवं राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ध्रुवदास अग्रवाल, राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष केके गुप्ता एवं प्रांतीय महामंत्री गोपाल गुप्ता एवं सभी पदाधिकारियों के भीलवाड़ा आगमन पर वैश्य फेडरेशन जिला भीलवाड़ा द्वारा जिलाध्यक्ष कैलाश कोठारी के निवास स्थान पर सभी का स्वागत किया गया। कार्यकारी अध्यक्ष ओमप्रकाश हिंगड़ द्वारा स्वागत उद्बोधन में वैश्य फेडरेशन द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी। प्रदेश अध्यक्ष एनके गुप्ता ने कहा कि वैश्य समाज समृद्ध है एवं सर्वाधिक सेवा कार्य करने के साथ-साथ सर्वाधिक टैक्स भी देता है परंतु राजनीति एवं प्रशासनिक सेवाओं में अपेक्षित भागीदारी नहीं होने से सर्वाधिक उपेक्षित है, अत: समाज के सभी घटकों के एकजुट होकर संगठित होने एवं राजनीति तथा प्रशासनिक सेवाओं से जुडऩे की महती आवश्यकता है।
प्रांतीय प्रभारी एवं राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष धु्रवदास अग्रवाल ने स्पष्ट किया कि हमें संगठित होकर एवं सबको साथ लेकर सदस्य संख्या में वृद्धि कर संगठन की मजबूती हेतु निरंतर कार्य करने की आवश्यकता है। प्रांतीय महामंत्री गोपाल गुप्ता ने बताया कि प्रदेश द्वारा सभी जिलों को आवश्यक मार्गदर्शन, सहायता एवं मदद करने को वे सदा तत्पर है। राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं डूंगरपुर के पूर्व सभापति केके गुप्ता ने कहा कि निरंतर संगठन हित में कार्य करने की आवश्यकता है। प्रांतीय उपाध्यक्ष दामोदर अग्रवाल ने अपने जोशीले उद्बोधन के दौरान बताया कि संपूर्ण वैश्य समाज का संगठित होना आज की प्रथम आवश्यकता है। १९९९ में वैश्य समाज के ४२ सांसद होने के बाद भी केंद्रीय मंत्रिमंडल में उनका कोई प्रतिनिधित्व नहीं था, परंतु वैश्य फेडरेशन के संस्थापक अध्यक्ष रामदास अग्रवाल ने उन सब सांसदों को साथ लेकर प्रधानमंत्री से मिलने के फलस्वरूप वैश्य समाज के तीन सांसदों को केंद्रीय मंत्रिमंडल में स्थान मिला। वर्ष २००१ में हैदराबाद में हुए वैश्य सम्मेलन में लगभग ५ लाख से अधिक सदस्यों के भाग लेने से संगठन शक्ति के आधार पर ही एक जिले का नामकरण एक दिवंगत वैश्य नेता के नाम पर तुरंत करवाना संभव हुआ। उन्होंने कहा कि संगठन को सशक्त बनाने एवं मजबूत बनाने हेतु संगठन का विस्तार तहसील एवं कस्बा स्तर पर करने हेतु हम सबको मिलकर निरंतर प्रयास करना आवश्यक है, वैश्य बन्धु पर आए किसी भी संकट के समय हमें त्वरित साथ खड़े होने की जरूरत है। बैठक में प्रांतीय उपाध्यक्ष मधु जाजू ने भी वैश्य एकता को संगठित रखने के लिए विचार प्रकट किए। जिलाध्यक्ष कैलाश कोठारी ने आभार प्रकट किया। बैठक में महिला जिलाध्यक्ष लीला राठी, गोपाल राठी, रामेश्वर काबरा, रामगोपाल अग्रवाल, अक्षय कोठारी, प्रेमस्वरूप गर्ग, सुमित जागेटिया, सुलोचना गर्ग, महेश खंडेलवाल, रामप्रकाश अग्रवाल, रामप्रकाश पोरवाल, राघव कोठारी, आशीष अग्रवाल, हर्षिल अग्रवाल, अजय नौलखा, राकेश जैन आदि ने अपनी बात रखी।

संबंधित खबरें