Video - सीआरपीएफ जवान की बेटी को अगवा कर दुष्कर्म करने के आरोपित को सात साल की कैद

Video - सीआरपीएफ जवान की बेटी को अगवा कर दुष्कर्म करने के आरोपित को सात साल की कैद

Wed 25 Apr 18  1:40 pm

 भीलवाड़ा संपत माली। सीआरपीएफ में तैनात जवान की नाबालिग बेटी को अगवा कर गुजरात ले जाने व चार दिन बंधक बनाकर दुष्कर्म करने के मामले में कावांखेड़ा निवासी उम्मेदसिंह पुत्र लादूसिंह रावत को 7 साल कैद और 3 हजार रुपए जुर्माने से दंडित किया है। फैसला विशिष्ट न्यायाधीश (यौन अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम ) सीपी सिंह ने बुधवार को सुनाया। 

 विशिष्ट लोक अभियोजक महेशचंद्र विश्नौई ने बताया कि  एक युवक ने 1 अक्टूबर 2014 को कोतवाली में रिपोर्ट दी कि उसके पिता सीआरपीएफ में तैनात है। वह अपनी बहन व परिजनों के साथ  एक कॉलोनी में रहता है। 23 सितंबर की रात्रि को उसकी नाबालिग बहन को कावांखेड़ा निवासी उम्मेदसिंह रावत फरार कर ले गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर तफ्तीश की। इसके बाद 3 अक्टूबर 14 को  पुलिस ने अजमेर तिराहे से नाबालिग लड़की को दस्तयाब किया। पीडि़ता ने बयान दिया कि आरोपित उसे घर से पहले सालरियाखेड़ा  और एक दिन बाद  गुजरात के गांधीनगर ले गया । जहां उम्मेद ने उसे एक किराये के कमरे में चार दिन बंधक बनाकर रखा और दुष्कर्म किया।  पुलिस ने आरोपित उम्मेद सिंह को गिरफ्तार कर न्यायालय में चार्जशीट पेश की। इस मामले में सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष ने 14 गवाह व 19 दस्तावेज पेश कर आरोप सिद्ध किये। इस मामले में आज न्यायालय ने उम्मेद सिंह को सजा और जुर्माने से दंडित किया।