boltBREAKING NEWS

बीस साल से लापता पति का इन्तजार... कब आओंगे

बीस साल से लापता पति का इन्तजार... कब आओंगे

 पीपलून्द जहाजपुर। बीस साल पहले भंवर सिंह दो बच्चे और पत्नी को छोडकर अचानक लापता हो गये। पति के इन्तजार में आंख्ंो पथरा गई और वो मांसिक रूप से अस्वस्थ हो गई। रिस्तेदारों ने जैसे-तैसे करके बेटी की शादी करा दी। बेटे ज्वाला सिंह मांसिक विकलांग है जो अपने दादी के पास भीलवाडा रहता है। पगली के नाम से मषहुर सूरज कंवर दिन भर इधर-उधर घूमती है पडोस में रहने वाली काली दो रोटी दे देती है। विक्षिप्त होने के कारण कुछ याद नही रहता और उलूल जुलूल बाते करती है। राज्य सरकार की ओर से बाल अधिकारिता विभाग, यूनिसेफ एवं पीसीसीआरीसएस के संयुक्त तत्वावधान में चलाए जा रहबाल संरक्षण संकल्प यात्रा में पडोसी काली ने सूरज कंवर को किसी भी योजना से लाभ दिलाने के लिए गुहार लगाती हैे। यात्रा के बाल मित्र परित्यक्ता पेंषन के लिए प्रयास करते है किन्तु पति के लापता होने तथा एफआईआर नही होने जैसी कई जटिलताओं के चलते लाभ दिलाने में अस्मर्थ है विषेष परिस्थिति में इस माामले को कलेक्टर को सरपंच के माध्यम से प्रयास प्रारम्भ किया गया।

यात्रा के ग्राम भ्रमण कार्यक्रम अन्तर्गत ग्रामीण अपनी समस्याएं बाल मित्रों से साझा करने लगे है। पिपलून्द की अनुष्का पिता की मौत के बाद अपनी मां के साथ नाना के पास रहती थी किन्तु मां ने भी बेटी को छोडकर अपनी दुसरी दुनिया बसा ली अब नाना ही सहारा है ऐसे में बाल मित्रों ने पालनहार योजना का लाभ दिलाने के लिए आवेदन आनलाईन कराने की प्रक्रिया प्रारम्भ की। तो वही रैगर मुहला पीपलुन्द की गोपाली देवी जिसका पति दुर्गालाल आये दिन शराब पीकर मारपीट करता तंग आकर अपने पीहर में रह रही है बाल मित्रों ने परित्यक्ता पेंषन की आवेदन आनलाईन कराने की कवायद शुरू की। यात्रा सोमावार को ग्राम पंचायत पीपलून्द पहुंचा जहंा सरपंच बेद प्रकाष खटीक की अध्यक्षता में पंचायत सदस्यों के साथ बैठक कर ग्राम पंचायत स्तरीय बाल सरंक्षण ईकाइ का गठन कर बाल संरक्षण के मुददों पर चर्चा की गई तथा राउमा विद्यालय पिपलून्द में बच्चों के साथ कई नवाचारों के माध्यम से बाल अधिकारों पर चर्चा करते हुए बाल विवाह, बाल हिंसा, बाल तस्करी जैसे बुराईयों के विरूद्व जागरूक किया गया । घर घर दस्तक देकर 11 सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के आवेदन आनलाईन कराने की प्रक्रिया प्रारम्भ की गई। ग्राम भ्रमण के दौरान सरंपच बेद प्रकाष खटीक, ग्राम विकास अधिकारी विमला मीणा, पंचायत सहायक दीपक तिवाडी, साथीन मोना शर्मा के साथ यात्रा समन्वयक सीताराम गुर्जर, सोना बैरवा, मंजित गुर्जर, सफिस्ता खान, अजय सिंह, टीकम चन्द उपस्थित थे।