boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

ऐसा प्यार नहीं देखा होगा: पति ने पत्नी की मौत के बाद याद में बनवाया मंदिर, बेटों ने कहा-अब मां हमारे पास

ऐसा प्यार नहीं देखा होगा: पति ने पत्नी की मौत के बाद याद में बनवाया मंदिर, बेटों ने कहा-अब मां हमारे पास

 अभी तक आपने देवी-देवता या फिर किसी बड़ी सेलिब्रिटी के मंदिर के बारे में सुना होगा। लेकिन मध्य प्रदेश के शाजापुर में एक पति ने अपनी पत्नी की मौत के बाद उसका मंदिर बनवा है। जिसकी चर्चा चारों तरफ खूब हो रही है। इतना ही नहीं भगवान की तरह इसमें तीन फीट की बीवी की प्रतिमा भी स्थापित की गई है। आइए जानते हैं आखिर क्यों पति को बनवाना पड़ा ये मंदिर...

madhya pradesh interesting story and true love husband built wife mandir after died in sajapur

दरअसल, यह अनोखा मंदिर शाजापुर जिला मुख्यालय से करीब तीन किलोमीटर दूर सांपखेड़ा गांव में बना हुआ है। जहां बंजारा समाज के नारायणसिंह राठौड़ ने अपनी पत्नी से गीताबाई इतना प्रेम करते हैं कि उन्होंने उसकी याद में मंदिर ही बनवा दिया। परिवार के लिए अब महिला की प्रतिमा को भगवान के रूप में पूजते हैं।

madhya pradesh interesting story and true love husband built wife mandir after died in sajapur

बता दें कि गीताबाई का इसी साल 27 अप्रैल को कोरोना की दूसरी लहर में निधन हो गया था। परिवार ने महिला की जान बचाने के लिए लाखों रुपए खर्च किए, लेकिन वह फिर भी नहीं बच सकीं। गीताबाई  के बेटे अपनी मां को भगवान की तरह मानते थे। लेकिन जब वह छोड़कर कर गईं तो वह हर समय मायूस और दुखी रहने लगे। परिजनों ने उनको काफी समझाया लेकिन मां का जाना वह सहन नहीं कर पा रहे थे।

 

madhya pradesh interesting story and true love husband built wife mandir after died in sajapur

गीताबाई के बेटों ने अपने पिता नारायण सिंह को मां की याद में मंदिर बनवाले का बोला। जिसको पिता हंसी-खुशी मान गए और कहा जल्द ही इसका काम शुरू करना चाहिए। फिर पूरे परिवार ने मिलकर महिला मंदिर बनवाया और गीताबाई की प्रतिमा स्थापित करने का निर्णय लिया। अलवर के कलाकारों को 29 अप्रैल को प्रतिमा तैयार कराने का ऑर्डर दिया। जिसे डेढ़ महीने बाद तैयार करवा दिया गया।

madhya pradesh interesting story and true love husband built wife mandir after died in sajapur


बेटे लक्की ने बताया कि जब मां की प्रतिमा अलवर से गांव आईं तो मूर्ति को देखकर ऐसा नहीं लग रहा था कि यह कोई पत्थर की प्रतिमा है। इसके बाद हमने पंडितों को बुलाकार पूरे विधि-विधान से  प्राण-प्रतिष्ठा कराई। रोज सुबह उठकर पूरे परिवार के लोग उनकी पूजा करते हैं। कोई भी शुभ काम करने से पहले उनका आर्शीवाद लेते हैं। 

 

madhya pradesh interesting story and true love husband built wife mandir after died in sajapur

मृतका गीताबाई, फाइल फोटो।

बता दें कि महिला की प्रतिमा को परजिन रोजना अलग-अलग साड़ी पहनाते हैं। सुबह शाम भगवान की तरह आरती के बाद भोग भी लगाया जाता है। बेटों का कहना है कि अब मां सिर्फ बोलती नहीं है, लेकिन वह हर पल हमारे परिवार के साथ रहती हैं। 

संबंधित खबरें