boltBREAKING NEWS
  • भीलवाड़ा हलचल app के नाम पर किसी को जबरन विज्ञापन नहीं दें और धमकाने पर सीधे पुलिस से संपर्क करे या 7737741455 पर जानकारी दे, तथाकथित लोगो से सावधान रहें । 
  •  
  •  
  •  

फर्जी चालान गिरोह ने पैसे जेब में रख सरकार और लोगों को लगाई चपत

फर्जी चालान गिरोह ने पैसे जेब में रख सरकार और लोगों को लगाई चपत

भीलवाड़ा(हलचल)।. ई-ग्रास चालान के जरिए राज्य सरकार को राजस्व की चपत लगाने वाले गिरोह की मार रजिस्ट्री कराने वाले लोगों पर पड़ रही है। पहले तो लोगों ने रजिस्ट्री के पैसे दिए। फर्जी चालान गिरोह ने पैसे जेब में रख सरकार और लोगों को चपत लगाई। अब मामला खुलने पर विभाग ने प्रदेश में रजिस्ट्री कराने वाले  लोगों को वसूली के नोटिस जारी किए जा रहे हैं। इसमें 12 प्रतिशत की ब्याज सहित पैसा जमा कराने को कहा गया है। ऐसे में लोग खुद को दोहरा ठगा महसूस कर रहे हैं। बता दें, इस गिरोह ने राजयभर में ई-ग्रास चालान के जरिए अलग-अलग विभागों में साठगांठ करके राÓय सरकार को स्टाम्प खरीदने, रजिस्ट्रियां कराने समेत कई मामलों में करोड़ों रुपए के राजस्व का नुकसान पहुंचाया है। भीलवाड़ा में भी 25 फर्जी ई-ग्रास चालान का मामला सामने आया है।

कर सकते हैं फर्जीवाड़ा

जानकारों के अनुसार कोई व्यक्ति फर्जीवाड़ा करना चाहे तो एक चालान का शुल्क देकर उससे सौ या हजार गुणा के चालान के रूप में उपयोग कर सकता है। बता दें कि ई-स्टाम्प पेपर का उपयोग सिर्फ जमीन-मकान का निबंधन कराने के लिए ही नहीं होता है। इससे शपथ-पत्र (एफिडेविट), करारनामा (एग्रीमेंट), विल (वसीयतनामा) समेत कई दस्तावेजी कार्य किए जा सकते हैं। हालांकि इसका सीरियल नंबर (जीआरएन नंबर) एक रहेगा, लेकिन इसे बहुत ध्यान देने पर जमीन-मकान की रजिस्ट्री में ही पकड़ा जा सकता है। बाकी के काम में यह फर्जीवाड़ा पकडऩे का कोई सिस्टम नहीं है।

बनती है ऑटो पीडीएफ फाइल

स्टाम्प वेंडर बताते हैं कि ई-ग्रास लॉगइन करके पेमेंट करते ही चालान की ऑटो-पीडीएफ फाइल बन जाती है, जो गलत है। इससे एक बार शुल्क देकर पीडीएफ की कई ओरिजिनल कॉपी निकाली जा सकती हैं। यदि पीडीएफ नहीं बनती, तो एक व्यक्ति एक बार में एक ही प्रिंट निकाल पाता। इससे जितनी कॉपी चाहिए, उसके लिए उतनी बार शुल्क देना पड़ता। ईमानदार व्यक्ति के लिए यह सिस्टम तो ठीक है, लेकिन फर्जीवाड़ा करने वालों को तो मुंहमांगी मुराद मिल गई।

संबंधित खबरें