boltBREAKING NEWS

चीन में कोरोना नियम हटने के बाद चंद्र नववर्ष की धूम, मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी भीड़

 चीन में कोरोना नियम हटने के बाद चंद्र नववर्ष की धूम, मंदिरों में उमड़ी श्रद्धालुओं की भारी भीड़

 चीन सरकार द्वारा सख्त ‘शून्य कोविड नीति' हटाए जाने के बाद रविवार को पूरे चीन में लोगों ने चंद्र नववर्ष धूमधाम से मनाया। इस दौरान मंदिरों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। गौरतलब है कि चंद्र नववर्ष को चीन में महत्वपूर्ण वार्षिक अवकाश के रूप में मनाया जाता है। चीन में मनाए जाने वाले इस नववर्ष में प्रत्येक वर्ष का नाम चीनी राशियों के बारह प्रतीकों के नाम पर रखा जाता है। कोरोना महामारी के कारण पिछले तीन वर्षों से प्रभावित इस उत्सव को इस वर्ष खरगोश के वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है। चीन के अधिकांश इलाकों में कोरोना संबंधी प्रतिबंधों में ढील के बाद बहुत से लोग लॉकडाउन और यात्रा निलंबन की चिंता किए बिना अपने परिवारों से दोबारा मिलने के लिए अपने-अपने गृहनगर पहुंचे हैं।

पिछले साल की तुलना में इस साल राजधानी बीजिंग में बड़े पैमाने हजारों-सांस्कृतिक कार्यक्रम हो रहे हैं। इस उत्सव के चीन में सार्वजनिक रूप से मनाए जाने वाले वसंत उत्सव की भी वापसी हुई है। चीन के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के मुख्य महामारी विशेषज्ञ वू जुनयू ने चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि लोगों की बड़ी संख्या में आवाजाही से कुछ क्षेत्रों में वायरस फैल सकता है। उन्होंने शनिवार को चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीबो पर लिखा, ''लेकिन अगले दो या तीन महीनों में बड़े पैमाने पर कोरोना वायरस के मामलों में उछाल की वृद्धि की संभावना नहीं है क्योंकि हाल की लहर के दौरान देश के 1.4 अरब लोगों में से लगभग 80 प्रतिशत लोग संक्रमित हो चुके हैं।'' बीजिंग में, कई उपासकों ने लामा मंदिर में सुबह की प्रार्थना की, लेकिन भीड़ पूर्व-महामारी के दिनों की तुलना में कम दिखी।

तिब्बती बौद्ध स्थल में सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए एक दिन में 60,000 आगंतुकों को अनुमति दी गई है। इसके लिए पहले से आरक्षण करवाने की आवश्यकता थी। वहीं, टैओरेंटिंग पार्क को नए साल के मौके पर पारंपरिक चीनी लालटेन से सजाए जाने के बावजूद फूड स्टाल में सामान्य हलचल का कोई संकेत नहीं दिखा। इसके अलावा, बदाचू पार्क में एक लोकप्रिय मंदिर मेला इस सप्ताह वापस आयोजित होगा, लेकिन डिटान पार्क और लोंगटन लेक पार्क में इसी तरह के आयोजनों की वापसी अभी बाकी है। हांगकांग में, साल की पहली अगरबत्ती जलाने के लिए, शहर के सबसे बड़े ताओवादी मंदिर, वोंग ताई सिन मंदिर में मौज-मस्ती करने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा। महामारी के कारण पिछले दो वर्षों से स्थल के लोकप्रिय अनुष्ठान को निलंबित कर दिया गया था।

 

परंपरागत रूप से, चंद्र नववर्ष की पूर्व संध्या पर रात 11 बजे से पहले इस मंदिर में बड़ी भीड़ इकट्ठा होती है, जिसमें हर कोई मंदिर के मुख्य हॉल के सामने सबसे पहले अपनी अगरबत्ती लगाने की कोशिश करता है। उपासकों का मानना ​​है कि जो लोग मुख्य हॉल के सामने सबसे पहले अपनी अगरबत्ती रखते हैं, उन्हें अपनी प्रार्थना का उत्तर मिलने का सबसे अच्छा मौका मिलता है। इस दौरान शनिवार रात मंदिर पहुंचे स्थानीय निवासी फ्रेडी हो इसलिए काफी खुश थे क्योंकि वह इस कार्यक्रम में व्यक्तिगत रूप से शामिल हो सके। हो ने कहा, ''मैं पहली अगरबत्ती रखने की उम्मीद करता हूं और प्रार्थना करता हूं कि नया साल विश्व में शांति लाए, हांगकांग की अर्थव्यवस्था समृद्ध हो, और महामारी हमसे दूर हो जाए तथा हम सभी सामान्य जीवन जी सकें। हर कोई यही चाहता है।''