boltBREAKING NEWS
  •   दिन भर की वीडियो न्यूज़ देखने के लिए भीलवाड़ा हलचल यूट्यूब चैनल लाइक और सब्सक्राइब करें।
  •  भीलवाड़ा हलचल न्यूज़ पोर्टल डाउनलोड करें भीलवाड़ा हलचल न्यूज APP पर विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे विजय गढवाल  6377364129 advt. [email protected] समाचार  प्रेम कुमार गढ़वाल  [email protected] व्हाट्सएप 7737741455 मेल [email protected]   8 लाख+ पाठक आज की हर खबर bhilwarahalchal.com  

ये है जहर, कैंसर, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल हर बीमारी की हैं असली जड़

ये है जहर, कैंसर, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल हर बीमारी की हैं असली जड़

  स्वस्थ रहने के लिए क्या खाना चाहिए, लंबा जीवन जीने के लिए क्या खाना चाहिए, बीमारी से बचने के लिए क्या खाएं? इन तमाम सवालों का एक ही जवाब है कि आपको नीचे बताए खाद्य पदार्थों का कम से कम सेवन करना चाहिए या पूरी तरह छोड़ देना चाहिए।

 

आपके स्वस्थ रहने और बीमार होने दोनों में खाने-पीने का सबसे बड़ा रोल होता है। स्वस्थ और लंबा जीवन जीने के लिए हेल्दी डाइट लेना जरूरी है। स्वाद के चक्कर में रोजाना खाई जाने वाली कुछ चीजें सेहत को बर्बाद करने में देर नहीं लगाती हैं। फास्ट फूड, जंक फूड, प्रोसेस्ड फूड, ज्यादा मीठे खाद्य और पेय पदार्थ इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं


यह ऐसी चीजें हैं, जिन्हें खाने में तो मजा आता है लेकिन यह धीरे-धीरे शरीर को खोखला करती रहती हैं। इनके लगातार सेवन से मोटापा, पोषण की कमी, कैंसर, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल, दिल के रोग, हाई ब्लड प्रेशर, कैल्शियम की कमी, खून की कमी, कुपोषण, त्वचा और बालों को नुकसान आदि गंभीर और जानलेवा बीमारियों का खतरा बढ़ता है।

अनहेल्दी फूड में क्या क्या आता है? हम आपको कुछ ऐसे ही खाद्य और पेय पदार्थों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें WHO से लेकर तमाम एक्सपर्ट्स और डॉक्टर तक सेहत के लिए खतरनाक मानते हैं। अगर आप बढ़िया सेहत के साथ लंबी आयु चाहते हैं, तो इन चीजों से किसी भी कीमत पर दूरी बना लें वरना अस्पताल का बिस्तर आपका इंतजार कर रहा है।

फ्राइड फूड्स

फ्राइड फूड्स

आपको किसी भी तरह के फ्राइड फूड्स को खाने से बचना चाहिए। इसकी वजह यह है कि इनमें फैट, नमक और कैलोरी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। इनके लगातार सेवन से आपको हृदय स्वास्थ्य और मोटापे का सबसे ज्यादा खतरा होता है। फ्राइड फूड्स को जिस प्रकार के तेल में पकाया जाता है, उससे कैंसर होने का रिस्क भी अधिक है।

आलू के चिप्स

आलू के चिप्स

आलू के चिप्स खाना भला कौन पसंद नहीं करता है। बच्चे दिन-रात चिप्स ही तो खाते हैं। लेकिन आप नहीं जानते हैं कि जाने-अनजाने में आप चिप्स के रूप में पेट में 'जहर' भर रहे हैं। इनमें किसी भी तरह का पोषण नहीं होता है, चिंता की बात यह है कि इसमें बस फैट और सोडियम की मात्रा ज्यादा होती है, जिससे आपको मोटापा, हाई बीपी, कैंसर और कोलेस्ट्रॉल का रिस्क हो सकता है।

ज्यादा चीनी का सेवन

ज्यादा चीनी का सेवन

चीनी को इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन माना गया है। ऐसे खाद्य या पेय पदार्थ जिनमें चीनी की मात्रा अधिक होती है, वो सेहत के लिए हर लिहाज से खतरनाक होते हैं। चीनी में का पोषण मूल्य शून्य बताया गया है और इसके सेवन से मोटापा और चयापचय रोग जैसे डायबिटीज का खतरा हो सकता है।

प्रोसेस्ड ऑयल

प्रोसेस्ड ऑयल

जितना संभव हो प्रोसेस्ड ऑयल को अपनी डाइट से बाहर करने का प्रयास करें। अंगूर, सोयाबीन, कैनोला, बिनौला, मक्का और वनस्पति तेल जैसे प्रोसेस्ड ऑयल मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं और इनसे बचना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि प्रोसेस के दौरान उन्हें अधिक तापमान पर गर्म किया जाता है, जिससे तेल ऑक्सीकरण हो जाता है।

सफेद ब्रेड, सफेद चावल, पास्ता, पेस्ट्री, पिज्जा

सफेद ब्रेड, सफेद चावल, पास्ता, पेस्ट्री, पिज्जा

सफेद ब्रेड, सफेद चावल, पास्ता, पेस्ट्री और पिज्जा जैसी चीजों को शौक से खाया जाता है। इन चीजों में कार्बोहाइड्रेट की ज्यादा मात्रा होती है। इससे शरीर में सूजन हो सकती है। इसके अलावा इनमें चीनी की मात्रा अधिक होती है और ये मोटापे से भी जुड़े होते हैं। इनमें फाइबर की कमी होती है जिससे कब्ज और पेट के अन्य रोग हो सकते हैं।

 

ब्रेकफास्ट सॉसेज

ब्रेकफास्ट सॉसेज

अधिकतर अध्ययनों में इस बात का जिक्र गया है कि अनप्रोसेस्ड रेड और प्रोसेस्ड मीट के सेवन से कोरोनरी आर्टरी डिजीज का सबसे ज्यादा खतरा होता है। इतना ही नहीं इनका अधिक सेवन सीधे रूप से कोरोनरी हार्ट डिजीज से भी जुड़ा है।

 

प्रोसेस्ड मीट

प्रोसेस्ड मीट

जिस तरह ब्रेकफास्ट सॉसेज, बेकन और टर्की बेकन जैसे प्रोसेस्ड मीट सेहत के लिए खतरनाक हैं, उसी तरह प्रोसेस्ड मीट से बनने वाली दूसरी चीजें जैसे हॉट डॉग, डेली मीट, पैकेज्ड बोलोग्ना, बीफ जर्की, पेपरोनी और अन्य सभी चीजों से जितना संभव हो सके परहेज करना चाहिए। Who ने प्रोसेस्ड मीट को ग्रुप 1 कार्सिनोजेन की कैटोगरी में रखा है, जिसका अर्थ है कि यह कैंसर का कारण बनता है।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।