boltBREAKING NEWS

VIDEO कोई भ्रष्टाचार के आरोप साबित कर दें तो दे दूंगा इस्तीफा-बोले सभापति पाठक, आरोप लगाने वाले कांग्रेसी

VIDEO कोई भ्रष्टाचार के आरोप साबित कर दें तो दे दूंगा इस्तीफा-बोले सभापति पाठक, आरोप लगाने वाले कांग्रेसी

भीलवाड़ा (राजकुमार माली)। नगर परिषद सभापति राकेश पाठक ने मंगलवार को पार्षदों द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि अगर कोई साबित कर दे तो मैँ अपने पद से इस्तीफा दे दूंगा। आरोप लगाने वाले पार्षद कांग्रेसी है। 
नगर परिषद में आज भाजपा पार्षदों की बैठक के दौरान हलचल से बातचीत करते हुए कहा कि कल नगर परिषद में बोर्ड बैठक को लेकर हुए हंगामें के दौरान मैं यहां नहीं था। उन्होंने कहा कि बोर्ड बैठक के लिए वे कई बार ईओ नोट लिख चुके है लेकिन आयुक्त इस मामले में गंभीर नहीं है। इसी कारण बोर्ड बैठक नहीं हो पाई और इसी पर चर्चा करने के लिए हम यहां एक साथ बैठे है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगर कोई मुझ पर भ्रष्टाचार के आरोप सिद्ध कर दे तो मैं अपने पद से इस्तीफा दे दूंगा। कल आरोप लगाने वाले पार्षद भाजपा के नहीं बल्कि कांग्रेस के थे। सभापति से जब यह प्रश्न किया कि उपसभापति रामलाल योगी ने भी नगर परिषद बोर्ड पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए है। इस पर पाठक ने कहा कि उनके पास दो साल में अवैध निर्माण और अतिक्रमण से संबंधित कोई भी पत्रावली नहीं आई है और कोई आई भी है तो उस पर गंभीर टिप्पणी करके भेजा गया है। 
सभापति के पास ही बैठे उपसभापति ने तो यहां तक आरोप लगाए कि उन्होंने भ्रष्टाचार के साक्ष्य भी दिए है। 
जनप्रतिनिधियों को तवज्जो नहीं :
पाठक ने कहा कि सरकार ने स्वायत्तशाषी शब्द को समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि शहरी ओलम्पिक होने वाले है। उसमें कोई जनप्रतिनिधि शामिल नहीं है। सरकार का जनप्रतिनिधियों पर विश्वास नहीं रह गया है। सरकार किसी भी कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों को शामिल नहीं करती है। जनप्रतिनिधि का मतलब मंत्री, विधायक और सांसद नहीं होता और भी जनप्रतिनिधि होता है। पंचायत समिति सदस्य और पार्षद को किस कार्यक्रम में शामिल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यह मामला भीलवाड़ा ही नहीं पूरे राजस्थान में ऐसे ही हो रहा है। हमें लड़ाई सरकार से लडऩी होगी। 
मैं नहीं बोलूंगा फिर सच निकल जाएगा :
इस दौरान उप सभापति रामलाल योगी ने कहा कि मैं अभी नहीं बोलूंगा फिर कोई सच निकल जाएगा। मैं अपने मुद्दे पर कायम हूं। इस बैठक के बाद उन्होंने आयुक्त को बोर्ड बैठक में शामिल करने के प्रस्ताव भी दिए जिसमें उन्होंने भ्रष्टाचार के मामले ही रखे है।