आधी रात को मंदिर के पुजारी का अपहरण, मारपीट की, 6 घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने करवाया मुक्त, 3 लोग डिटेन

भीलवाड़ा बीएचएन। सबलपुरा गौशाला के नजदीक स्थित हनुमान मंदिर के 42 वर्षीय पुजारी का बीती देर रात कार से आये लोगों ने मारपीट करने के बाद अपहरण कर लिया। वारदात की सूचना मंगलवार सुबह मिलने के छह घंटे बाद पुलिस ने भीम-उदयपुर हाइवे स्थित एक होटल से अगवा पुजारी को मुक्त करवा लिया। वहीं तीन लोगों को भी डिटेन किया है, जो देवगढ़ व करेड़ा क्षेत्र के बताये जा रहे हैं। अपहरण के कारणों का अभी खुलासा नहीं हो सका।

मंगरोप पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, कावांखेड़ा निवासी शांतिलाल 42 पुत्र हीरा लुहार ने सबलपुरा गौशाला के नजदीक खेत सिजारे ले रखा है और वहीं बालाजी का मंदिर है, जिसकी पूजा-अर्चना भी शांतिलाल स्वयं करते हैं।

पुलिस का कहना है कि बीती देर रात कुछ लोग कार से मंदिर आये और पुजारी शांतिलाल लुहार के साथ मारपीट की । ये लोग जबरन पुजारी को कार में डालकर ले गये। वारदात की सूचना सुबह साढ़े नौ बजे पुलिस को मिली। इस सूचना को गंभीरता से लेते हुये डीएसपी श्यामसुंदर विश्नौई के सुपरविजन और मंगरोप थाना प्रभारी डॉ. विवेक हरसाना के निर्देशन में एक टीम गठित की गई। टीम में दीवान शंकर नाथ, कांस्टेबल शनि, सुनील, सुरेश व महिला कांस्टेबल प्रमिला को शामिल किया गया। इस टीम ने छह घंटे की मशक्कत के बाद अगवा शांतिलाल को उदयपुर-भीम हाइवे स्थित किसन नामक व्यक्ति के होटल से मुक्त करवा लिया। पुलिस का कहना है कि मामले में तीन लोगों को डिटेन किया गया है। वहीं अपहरण की रिपोर्ट शांतिलाल की पत्नी मंजू लौहार ने दी है। फिल्हाल अपहरण के कारणों का खुलासा नहीं हो सका। फिल्हाल पुलिस कार्रवाई जारी है। आरोपितों से पूछताछ के बाद मामले का खुलासा हो सकेगा।

Read MoreRead Less
Next Story