ब्लॉक स्तरीय जन सुनवाई में मात्र 15 परिवाद, बड़ा मुद्दा रायला को सीएचसी में क्रमोन्नति का रहा

ब्लॉक स्तरीय जन सुनवाई में मात्र 15 परिवाद, बड़ा मुद्दा रायला को सीएचसी में क्रमोन्नति का रहा

रायला ramesh dargar। बनेड़ा ब्लॉक स्तरीय जनसुनवाई में विभिन्न विभागों से संबंधित समस्याओं के 15 परिवाद आए जिसकी जनसुनवाई उपखंड अधिकारी बनेड़ा श्रीकांत व्यास ने की। व्यास ने संबंधित विभाग के उपस्थित अधिकारियों को तुरंत समस्या के समाधान करने के निर्देश दिए तथा इन्हीं शिकायतों को मुख्यमंत्री संपर्क पोर्टल पर भी दर्ज कराया गया। रायला के गोपाल वैष्णव तथा रमेश कुमार दरगड ने रायला के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को सामुदायिक चिकित्सालय में क्रमोन्नत करने हेतु जनहित में उपखंड अधिकारी को परीवाद प्रस्तुत कर कहा है कि रायला औद्योगिक क्षेत्र है तथा प्रतिदिन ओपीडी में 150 के लगभग मरीज इलाज करने आते हैं तथा डिलीवरी में प्रति महीना सो से डेढ़ सौ महिलाएं यहां पर भरती होती है। नेशनल हाईवे होने के साथ-साथ दुर्घटनाओं में भी घायल लोगों का इलाज है तो रायला के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर ही इलाज हेतु मरीज को यहां पर लाया जाता है। गंभीर अवस्था में घायल व्यक्ति का यहां पर उपचार नहीं होने की स्थिति में अन्यत्र रेफर किया जाता है तब तक इलाज में काफी देर हो जाती है और मरीज की हालत बिगड़ जाती है। ऐसे में सामुदायिक चिकित्सालय हो तो मरीज को त्वरित इलाज मिल सकता है। और उसकी जान बचाई जा सकती है। आए दिन घटनाएं दुर्घटनाएं होने के बाद पोस्टमार्टम के लिए भी रायला चिकित्सालय में लाया जाता है। प्राथमिक चिकित्सा केंद्र होने की वजह से समय पर पोस्टमार्टम हेतु डॉक्टर उपलब्ध नहीं होते हैं जिससे मृतक के परिजनों को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। रायला के आसपास के कम से कम 30 गांव के लोग इलाज हेतु राजकीय प्राथमिक चिकित्सालय में पहुंचते हैं। इस अस्पताल को क्रमोनत करने के लिए स्थानीय विधायक लालाराम बेरवा को भी लोगों ने अवगत कर रखा है। लेकिन इस बजट में रायला के राजकीय प्राथमिक चिकित्सालय के क्रमोन्नति के आदेश नहीं किए गए। जिससे जनता में मायूसी छाई हुई है तथा स्थानीय विधायक की भूमिका को लेकर भूमिका सोशल प्लेटफॉर्म पर तर्क वितर्क किए जा रहे हैं। क्योंकि लोगों से विधायक ने चिकित्सालय को क्रमोन्नति करने का वादा किया था। जो पूरा नहीं हुआ है। इसलिए स्थानीय लोगों ने आज जनसुनवाई में राजकीय प्राथमिक चिकित्सालय केंद्र को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में परिवर्तित करने के लिए उपखंड अधिकारी को परिवाद प्रस्तुत किया।

Read MoreRead Less
Next Story