वी‍ड‍ियो: अजमेर में माली समाज की 42 युवतियों सहित 559 ने दिया परिचय, समाज में एकजुटता पर हुई चर्चा

अजमेर (विजय गढवाल) । अजमेर में माली समाज का पहला परिचय सम्मेलन तोपदड़ा स्थित गढवाल पैलेस में सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। सम्मेलन में 559 युवक युवतियों ने अपना परिचय दिया। इस दौरान दोनों पक्षों की कई संबंधों पर बातचीत हुई है जो आगे चलकर रिश्तों में परिवर्तित होगी।

ज्‍योति बा फूले सैनी मालियान एकता समिति की ओर से आयोजित पहले विवाह लायक युवक युवतियों के परिचय सम्मेलन का उद्घाटन महात्मा ज्‍योति बा फूले और माता सावित्री बाई की तस्वीर पर माल्यार्पण कर किया गया। इस मौके पर अध्यक्ष अशोक टांक ने अतिथियों का स्वागत किया जबकि संस्था सचिव हेमेन्द्र सिंगोदिया ने सभी का आभार जताया। मंच का संचालन मोनिका संईवाल ने किया। इस मौके पर गोकुल धाम के वीरभद्र महाराज अखिल भारतीय माली समाज सदन अध्यक्ष ओमप्रकाश सांखला गढवाल पैलेस के दिलीप गढवाल, राजस्थान माली महासभा के महामंत्री गोपाल माली, इंदौर के पुरूषोत्तम सैनी, सत्यनारायण क'छावा, हनुमानप्रसाद क'छावा, प्रेमराज, पत्रकार राजकुमार माली, रोशन गढवाल के साथ ही अन्य लोग मौजूद थे। इस मौके पर 42 युवतियों सहित 559 युवाओं ने मंच पर आकर अपना परिचय दिया। खास बात यह रही कि सम्मेलन की शुरूआत की बाद भी ऑन स्पोट रजिस्ट्र्रेशन करना पड़ा। कई युवा और युवतियां बिना रजिस्ट्रेशन के वहां पहुंचे थे।

अधिक पढ़ी लिखी और नौकरी पेशा युवतियां

परिचय सम्मेलन के दौरान यह देखने को मिला कि समाज की युवतियां अधिक पढी लिखी थी और इनमें कई नौकरी पेशा भी थी। जबकि युवक कम पढे लिखे लेकिन रोजगार वाले थे। इसे लेकर सचिव हेमेन्द्र कुमार सिंगोदिया ने कहा कि आज सरकार भी महिलाओं को प्रोत्साहन दे रही है जिससे युवतियां अधिक पढ रही है, आरक्षण भी बढा दिया गया है। उन्होंने युवाओं का हौंसला अफजाई करते हुए कहा कि वे स्वरोजगार तो अपना रहे है लेकिन पढ कम रहे है। उन्होंने कहा कि समाज में युवतियों के अधिक पढे लिखे होने से शादियों में दिक्कत आ रही है। अधिकांश परिवार सरकारी नौकरी वाला दूल्हा ढूंढते है लेकिन यह कम ही संभव है। उन्होंने युवतियों के परिवार जनों और युवतियों से आग्रह करते हुए कहा कि युवा सरकारी नौकरी वाले नहीं है लेकिन वे भी रोजगार कर रहे है। शादी की पहल युवतियां अपनी ओर से करें और इसे अ'छे से निभायें भी। उन्होंने कहा कि युवतियां नौकरी पेशा वाली है तो युवक शर्म नहीं करें। घर का अन्य काम करें, परिवार संभालें लेकिन रिश्ता दोनों को निभाना चाहिए।

समाज में एकजुटता की जरूरत

माली समाज में एकजुटता की जरूरत है। एकजुटता नहीं होने से वह राजनीति में पिछड़ रहा है जिससे समाज का विकास भी नहीं हो पा रहा है। यह बात अखिल भारतीय माली सदन अध्यक्ष ओमप्रकाश सांखला ने परिचय सम्मेलन के बाद चर्चा करते हुए कही। उन्होंने कहा कि अजमेर और नागौर में माली समाज की काफी अधिकता है लेकिन एकजुटता के अभाव में समाज का विकास नहीं हो पा रहा है। उन्होंने वहां मौजूद समाज के प्रतिष्ठित लोगों से समाज में एकजुटता के लिए आगे आने की बात कही। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के चुनाव में हार के कारणों पर भी चर्चा की। इस दौरान यह बात भी उभरकर आई कि गहलोत के कुछ निकटतम लोगों ने समाज को तव"ाो नहीं दी और उनके कोई काम नहीं किये। इस मौके पर गोपाल माली, दिलीप गढवाल, अशोक टांक, राजकुमार माली, रोशन माली, प्रदीप माली सहित अन्य लोग मौजूद थे।

Tags

Read MoreRead Less
Next Story