सभी पेड़ लगाएं और उसे बड़ा करने का संकल्प ले - जिला कलक्टर

सभी पेड़ लगाएं और उसे बड़ा करने का संकल्प ले - जिला कलक्टर



चित्तौड़गढ़, । "मुख्यमंत्री वृक्षारोपण महा-अभियान" के अंतर्गत जिले में मानसून-2024 के दौरान सघन वृक्षारोपण महाअभियान के क्रियान्वयन हेतु जिला स्तर पर "हरित चित्तौड़" कार्यक्रम की वृक्षारोपण कार्यशाला बुधवार को इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी ऑडिटोरियम में आयोजित की गई। कार्यक्रम में जिला कलक्टर आलोक रंजन और पुलिस अधीक्षक सुधीर जोशी सहित अधिकारियों ने ' हरित चित्तौड़ एप' का शुभारंभ किया। इस अवसर पर विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया एवं वृक्षारोपण के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले व्यक्तियों ने अपने अनुभव साझा किए।

कार्यक्रम में जिला कलक्टर आलोक रंजन ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार पूरे राज्य में वृक्षारोपण महाअभियान चलाया जा रहा है। इसी क्रम में जिला स्तर पर भी वृहद रूप से वृक्षारोपण किया जाएगा। ' हरित चित्तौड़ ' अभियान का उद्देश्य लोगों का पौधे के साथ भावनात्मक लगाव पैदा करना है। उन्होंने कहा कि सभी अपने प्रियजनों या अन्य किसी के नाम पर पौधारोपण करें तथा पौधारोपण के साथ-साथ उसका रखरखाव किया जाए ताकि वह जीवित रह सकें। उन्होंने अधिकारियों, विद्यालय के प्रधानाचार्य, शिक्षक, सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी सहित आमजन से वृक्षारोपण के प्रति प्रतिबद्धता से कार्य करने को कहा। उन्होंने हर गांव में जगह चिन्हित कर सघन वृक्षारोपण करने तथा हरित चित्तौड़ एप्लीकेशन पर उसकी प्रविष्ठि करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ' हरित चित्तौड़' एप पर पौधों की उपलब्धता, उनके रखरखाव, उन्हें लगाने वालों की जानकारी उपलब्ध होगी। जिला कलक्टर ने कहा कि प्रकृति को बचाना हम सब की जिम्मेदारी है। सभी एक पेड़ लगाएं और उसे बड़ा करने का संकल्प ले। इस अवसर पर जिला कलक्टर ने सभी को वृक्षारोपण की शपथ दिलवाई और ऑडिटोरियम परिसर में वृक्षारोपण भी किया।

कार्यक्रम में जिला प्रमुख भूपेंद्र सिंह बडोली ने कहा कि वृक्षारोपण एक पुण्य का काम है और इस क्रम में यह अभियान बहुत महत्वपूर्ण है जिसके परिणाम भविष्य में दिखेंगे। उन्होंने कहा कि गांव में एक स्थान निर्धारित कर बच्चों के जन्मदिन आदि अवसरों पर पेड़ लगाए जाए। उन्होंने ऐसे पेड़ लगाने का आह्वान किया जिनकी कैनोपी बड़ी हो। पुलिस अधीक्षक सुधीर जोशी ने कहा कि इस अभियान में पुलिस विभाग 10 हज़ार पौधे लगाएगा। यह अभियान चित्तौड़गढ़ को हरा - भरा रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। हमारा जीवन और संस्कृति पेड़ो के इर्द गिर्द केंद्रित रही हैं। उन्होंने सभी से अधिक से अधिक पेड़ लगाने एवं पेड़ो की कटाई की सूचना पुलिस को देने को कहा। उन्होंने आमजन से पुलिस लाईन और पुलिस थानों में भी पौधारोपण करने का आह्वान किया।

इस अवसर पर अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन राकेश कुमार ने कहा कि हरित चित्तौड़ वृक्षारोपण अभियान में समाज के हर वर्ग की भागीदारी सुनिश्चित की गई है। चित्तौड़गढ़ एक हरा भरा जिला है और इस अभियान का उद्देश्य उस हरियाली को बनाए रखना एवं पौधारोपण के निर्धारित लक्ष्य की प्राप्ति करना है। उन्होंने कहा कि पौधों को जीवित रखने के लिए नियमित मॉनिटरिंग की जाएगी। साथ ही ब्लॉक स्तर एवं ग्राम पंचायत स्तर पर भी औपचारिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। अतिरिक्त जिला कलक्टर भू. अ. सुरेंद्र सिंह पुरोहित ने रामचरितमानस का जिक्र करते हुए कहा कि चित्रकूट में प्रवास के दौरान भगवान राम और सीता ने वहां पेड़ लगाए थे। इस प्रकार पेड़ों का महत्व आदिकाल से रहा है। उन्होंने सभी से पेड़ों की कटाई को रोकने और मिलकर अभियान को सफल बनाने का आह्वान किया।

जिला वन अधिकारी विजय शंकर पांडे ने कहा कि आज के दौर में पौधारोपण हमारा कर्तव्य बन चुका है। मौसम परिवर्तन के कारण हीट वेव, अनावृष्टि, अतिवृष्टि जैसी समस्याएं उत्पन्न हो गई है, जिसे रोकने के लिए वृक्षारोपण ही एकमात्र उपाय है। इस अभियान को सफल बनाने में विभागीय अधिकारियों के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों और आमजन की भूमिका भी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जिले में वन विभाग की 17 नर्सरियों से पौधे रियायती दरों पर प्राप्त किए जा सकते हैं।

कार्यक्रम में अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी राकेश पुरोहित ने अभियान की जानकारी देते हुए बताया कि इसके तहत जिले में 11 लाख से अधिक पौधे लगाए जाएंगे, जिसके लिए विभागवार लक्ष्य आवंटित किए गए हैं। पौधारोपण के साथ साथ उनके रखरखाव की भी पूरी व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि अभियान में नवाचार के तहत विद्यालय में एक शिक्षक को ' वृक्ष प्रेमी ' एवं विद्यार्थी को ' वृक्ष मित्र' बनाया जाएगा, जो पौधों की देखभाल करेंगे। इस अवसर पर उन्होंने जांभोजी और अमृता देवी बिश्नोई के योगदान को याद किया। उन्होंने '' धरती का कर्ज़ चुकाना हैं, हमें एक पेड़ लगाना है..." कविता प्रस्तुत की।

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंगवा की बालिकाओं द्वारा ' धरती कहे पुकार के' की थीम पर नृत्य नाटिका प्रस्तुत की गई। कार्यक्रम में पर्यावरण गीत, लघु फिल्म, संस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्शन भी किया गया। कार्यक्रम में वन विभाग के रेंजर राजेंद्र शर्मा ने पीपीटी के माध्यम से पौधारोपण कार्ययोजना की जानकारी दी। इस अवसर पर प्रधानाचार्य यशवंत जागेटिया और रेंजर दिव्या मेनारिया ने भी अपने विचार रखें।

कार्यक्रम में मुख्य कार्यकारी अधिकारी दिनेश कुमार मंडोवरा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पवन जैन, यूआईटी सचिव राजेश मेवाड़ा, आयुक्त रवींद्र यादव, डीपीएम राजीविका महेंद्र मेहता, जिले के उपखंड अधिकारीगण, तहसीलदार, बीडीओ, जिला स्तरीय और ब्लॉक स्तरीय अधिकारीगण, जनप्रतिनिधि, प्रधानाचार्य, सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी आदि उपस्थित रहे। मंच संचालन पारस टेलर ने किया।

हरित चित्तौड़' एप का शुभारंभ

कार्यक्रम में जिला कलक्टर आलोक रंजन और पुलिस अधीक्षक सुधीर जोशी सहित अधिकारियों ने ' हरित चित्तौड़' एप का शुभारंभ किया। जिला सूचना अधिकारी अशोक लोढ़ा ने एप की जानकारी देते हुए बताया कि एप में पौधारोपण से जुड़ी समस्त जानकारियां उपलब्ध होगी। इसमें नर्सरियों की जानकारी उपलब्ध होगी एवं नर्सरी से ऑनलाइन पौधे खरीदे जा सकेंगे। पौधारोपण के फोटो, वीडियो अपलोड करने तथा जियो टैग की सुविधा उपलब्ध होगी। साथ ही पौधारोपण पर प्रशंसा पत्र भी डाउनलोड किया जा सकेगा।

खोड़ीप निवासी दिनेश चंद्र कुमावत को सम्मानित किया

कार्यक्रम में जिला कलक्टर ने विगत 12 वर्षों में लगभग एक हज़ार पौधे लगाने वाले भदेसर पंचायत समिति के गांव खोड़ीप निवासी दिनेश चंद्र कुमावत को सम्मानित किया । इस अवसर पर दिनेश चंद्र ने अपने अनुभव साझा किए। उन्होंने बताया कि उन्होंने अपने स्तर पर गांव में 20 ट्राले मिट्टी डालकर उस पर पौधारोपण किया और उनकी नियमित देखभाल की। उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम में पानी की कमी होने पर उन्होंने हैंडपंप से पानी लाकर पौधों को जीवित रखा।

Read MoreRead Less
Next Story