खेतड़ी कॉपर खदान में लिफ्ट की चेन टूटने से फंसे लोगों में एक की मौत

खेतड़ी कॉपर खदान में लिफ्ट की चेन टूटने से फंसे लोगों में एक की मौत

झुंझुनूं | नीमकाथाना जिले के खेतड़ी नगर स्थित हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड की कोलिहान खदान में फंसे 15 लोगों में एक अधिकारी की मौत हो गई जबकि घायलों में आठ को जयपुर भेज दिया गया हैं। पुलिस के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इस हादसे में फंसे 15 लोगों में खदान का निरीक्षण करने कोलकाता से आई सतर्कता टीम में मुख्य सतर्कता अधिकारी उपेन्द्र पांडे की मृत्यु हो गई जबकि घायलों को विभिन्न अस्पतालों में इलाज के लिए ले जाया गया हैं जिनमें आठ को जयपुर रेफर किया गया हैं। बचाव अभियान के तहत बुधवार सुबह खदान से निकाले गए तीन लोगों को जयपुर के मणिपाल अस्पताल में भर्ती कराया गया इसके बाद खदान से निकाले गए पांच और लोगों को मणिपाल अस्पताल लाया गया जहां इन आठ लोगों का उपचार किया जा रहा है। इस हादसे में फंसे लोगों को बचाने के लिए चलाये गये राहत कार्य के बाद इसमें फंसे सभी लोगों को खदान से बाहर निकाल लिया गया जिनमें एक की मौत हो गई। उल्लेखनीय है कि मंगलवार रात खदान से निकलते समय लिफ्ट की चेन टूटने से खदान में अधिकारियों सहित 15 लोग फंस गए थे। हादसे के बाद मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा ने संबंधित अधिकारियों को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर राहत, बचाव कार्य तेजी से संचालित करने, प्रभावितों को हर संभव मदद व स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। खेतड़ी विधायक धर्मपाल गुर्जर घटना के कुछ समय बाद ही घटनास्थल पर पहुंच कर बचाव कार्य में मदद की।

संबंधित अधिकारियों को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर राहत, बचाव कार्य तेजी से संचालित करने, प्रभावितों को हर संभव मदद व स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने ईश्वर से इस हादसे में घायल सभी नागरिकों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ व खदान में फंसे लोगों के सकुशल बाहर आने की कामनाकी।उपमुख्यमंत्री दिया कुमारी ने सोशल मीडिया पर बताया कि इस हादसे में कोई जनहानि नहीं हुई है। अभी तक आठ लोगों को निकाला जा चुका है। उन्होंने खदान में फंसे लोगों के सकुशल बाहर आने और रेस्क्यू ऑपरेशन जल्द पूरा होने की कामना की।खेतड़ी विधायक धर्मपाल गुर्जर घटना के कुछ समय बाद ही घटनास्थल पर पहुंच कर बचाव कार्य का जायजा ले रहे हैं। खदान में खेतड़ी उप जिला अस्पताल के डॉ. प्रवीण कुमार शर्मा, शीशराम गुर्जर और इंजीनियर्स की दस सदस्यीय टीम भेजी गई थी।

Read MoreRead Less
Next Story