कोटा पुलिस पर हुए हमले में जिला प्रशासन ने उठाया कड़ा कदम, आरोपी के ठिकानों पर चलाया बुलडोजर

कोटा पुलिस पर हुए हमले में जिला प्रशासन ने उठाया कड़ा कदम, आरोपी के ठिकानों पर चलाया बुलडोजर

कोटा ! बूंदी जिले में कोटा पुलिस पर हुए हमले के मामले में जिला प्रशासन ने कड़ा रुख अपनाया है। प्रशासन ने बदमाश की कमर तोड़ने के लिए उसके ठिकानों पर बुलडोजर चलाकर बासनी गांव के मोस्ट वांटेड रामराज की संपत्ति को ध्वस्त कर दिया।

जानकारी के अनुसार एसडीएम विनोद कुमार, डीएसपी घनश्याम मीना, हिंडोली सीआई पवन कुमार भारी पुलिस बल के साथ बासनी गांव पहुंचे और बुलडोजर चलाकर संपति को कब्जे में ले लिया। आरोपी रामराज ने राजस्व और फॉरेस्ट की करोड़ों रुपए की बेशकीमती भूमि पर कब्जा किया हुआ था और जब पुलिस पर हमला किया गया तब वह यहीं छुपा हुआ था।

पुलिस के अनुसार से हार्डकोर अपराधी पर हत्या के प्रयास, धोखाधड़ी, चोरी सहित सरकारी भूमि, वन विभाग की भूमि पर कब्जा करने व अवैध खनन सहित कई मामले दर्ज हैं। बता दें कि कोटा पुलिस की टीम 23 मई को बासनी के जंगल में रह रहे अपराधी रामराज मीणा को गिरफ्तार करने आई थी। इस दौरान उनके साथ हिंडोली थाने का जाप्ता भी मौजूद था। आरोपी और उसके परिवार के लोगों ने पुलिस को आते हुए देखा तो पत्थरों की बौछार कर दी। कुछ लोग हथियार लेकर आए और पुलिसकर्मियों पर वार करने लगे। इन्ही में से किसी एक ने बंदूक से फायर कर दिया, जिससे हिंडोली पुलिस का कांस्टेबल नरपत सिंह घायल हो गया। आरोपी के खिलाफ दस संगीन मामले विभिन्न थानों में दर्ज हैं।

Read MoreRead Less
Next Story