मोदी बोले - हम सीना तानकर कह सकते हैं कि हिंदुस्तान ने युद्ध नहीं, बुद्ध दिए हैं'

मोदी बोले - हम सीना तानकर कह सकते हैं कि हिंदुस्तान ने युद्ध नहीं, बुद्ध दिए हैं

ऑस्ट्रिया दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विएना में सामुदायिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने भारतीय मूल के लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज भारत की पूरी दुनिया में बहुत चर्चा हो रही है। हजारों वर्षों से हम दुनिया के साथ ज्ञान और विशेषज्ञता साझा करते रहते हैं। हमें युद्ध नहीं दिया गया। हम सीना तानकर दुनिया को कह सकते हैं कि हमने हमने युद्ध नहीं, बुद्ध दिए हैं। भारत ने हमेशा शांति की बात की है। इसलिए 21वीं सदी की दुनिया में भी भारत अपनी भूमिका को सशक्त करने वाला है। आज दुनिया भारत को विश्व बंधु के रूप में देखती है, ये हमारे लिए गर्व की बात है। आज भारत के बारे में सुनकर आपका सीना भी 56 इंच का हो जाता होगा।

ऑस्ट्रिया अपनी दोस्ती के 75 वर्ष मना रहे'

इससे पहले पीएम मोदी ने कहा कि ऑस्ट्रिया का ये मेरा पहला दौरा है, जो उत्साह, उमंग मैं यहां देख रहा हूं वो अद्भूत है। 41 साल बाद भारत के किसी पीएम का यहां आना हुआ है। ये इंतजार एक ऐतिहासिक अवसर पर खत्म हुआ है। भारत और ऑस्ट्रिया अपनी दोस्ती के 75 वर्ष मना रहा है।

हम दोनों समाज बहु संवर्धित और बहुभाषी'

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भौगोलिक दृष्टि से भारत और ऑस्ट्रिया दो अलग-अलग छोर पर हैं, लेकिन हम दोनों के बीच अनेक समानताएं हैं। लोकतंत्र हम दोनों देशों को जोड़ता है। स्वतंत्रता, समानता, बहुलवाद और कानून शासन का आदर हमारी साझा मूल्य हैं। हम दोनों समाज बहु संवर्धित और बहुभाषी हैं।

लोकसभा चुनाव पर कही यह बात

पीएम मोदी ने कहा कि ऑस्ट्रिया में कुछ महीनों के बाद चुनाव होने वाले हैं जबकि भारत में हमने अभी-अभी लोकतंत्र का पर्व आन बान शान के साथ मनाया है। आज भारत में चुनावों के बारे में सुनकर दुनिया भर के लोग हैरान हो जाते हैं। कुछ सप्ताह पहले ही संपन्न हुए चुनावों में 650 मिलियन से अधिक लोगों ने मतदान किया, यानी कि 65 ऑस्ट्रिया के बराबर लोगों ने इसमें हिस्सा लिया।। कल्पना कीजिए, इतनी बड़ी चुनावी प्रक्रिया होती है, लेकिन मतदान के परिणाम कुछ ही घंटों के अंदर स्पष्ट हो जाते हैं। यह हमारी चुनावी मशीनरी और हमारे लोकतंत्र की ताकत है। भारत में सैकड़ों राजनीतिक दलों के 8000 से अधिक उम्मीदवारों ने इन चुनावों में भाग लिया। इस स्तर का मुकाबला, इतना विविध मुकाबला, उसके बाद ही जनता ने अपना जनादेश दिया। .60 साल बाद किसी सरकार को भारत में लगातार तीसरी बार सेवा करने का अवसर मिला।

उन्होंने कहा कि कोरोना के बाद के युग में हमने दुनिया भर में हर जगह राजनीतिक अस्थिरता देखी। अधिकांश देशों में सरकारों के लिए बचना आसान नहीं था। दोबारा चुने जाना एक चुनौती रही है। ऐसी स्थिति में भारत की जनता ने मुझ पर, मेरी पार्टी और NDA पर अपना विश्वास जताया। यह जनादेश इस बात का प्रमाण है कि भारत स्थिरता और निरंतरता चाहता है। ये जनादेश पिछले 10 वर्षों की नीति और कार्यक्रमों का है। ये जनादेश सुशासन का है, ये जनादेश बड़े संकल्पों के लिए समर्पित होकर काम करने का है।

Tags

Read MoreRead Less
Next Story